Friday, December 4, 2020

पाकिस्तान: पेशावर विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन कर रहे पख्तून छात्रों पर पुलिस बर्बरता की निंदा

Must read

बड़ी खबर : MDH ग्रुप के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का हुआ निधन, माता चन्नन देवी अस्पताल में ली अंतिम सांस

MDH ग्रुप के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन हो गया है। उन्होंने माता चन्नन देवी हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली है। 98 वर्षीय...

महोबा : बोरवेल में गिरा मासूम, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

महोबा : उत्तर प्रदेश के महोबा जनपद से एक मासूम के बोरवेल में गिर जाने का वाकया सामने आया है । घटना की सूचना...

आज हो रहा है हैदराबाद निकाय चुनाव में मतदान, अमित शाह ने किया था जमकर प्रचार

बीजेपी और ओवैसी की चुनाव रैलियों के बाद ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के चुनाव के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।...

किसानों पर शर्मनाक बल प्रयोग के लिए भारत सरकार माफी मांगे- रामगोविन्द चौधरी

- आंदोलन में प्राणों की आहुति देने वाले किसानों को दे शहीद का दर्जा - कृषि सम्बन्धी नए काले कानूनों को तत्काल ले वापस - MSP...

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पेशावर यूनिवर्सिटी कैंपस में शुक्रवार को हो रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर पुलिस के द्वारा लाठीचार्ज की पाकिस्तान के आवामी नेशनल पार्टी (एएनपी) की सहयोगी छात्र शाखा पख्तून स्टूडेंट फेडरेशन (पीएसएफ) ने घोर निंदा की है। उन्होंने कहा कि पीएसएफ के सैकड़ों कार्यकर्ता इस लाठीचार्ज में गंभीर रूप से घायल हो गए और सैकड़ों को गिरफ्तार कर लिया गया, जब वह यूनिवर्सिटी कैंपस में बुनियादी अधिकारों की मांग कर रहे थे।
अवामी नेशनल एसोसिएशन के समर हारून बिलौर ने कहा कि पुलिस प्रशासन को पख्तून स्टूडेंट फेडरेशन के कार्यकर्ताओं को तुरंत रिहा कर देना चाहिए और असली गुनहगारों को पकडऩा चाहिए जिन्होंने शिक्षण संस्थान के माहौल को प्रदूषित कर दिया है और अब खुलेआम आतंकवाद पर उतर आए हैं।
पख्तून स्टूडेंट फेडरेशन के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी और उसी के साथ ही इंसाफ स्टूडेंट फेडरेशन (आईएसएफ) जोकि सत्तारूढ़ पार्टी का छात्र गुट है, को कानूनी सुरक्षा प्रदान करना यह बतलाता है कि किस तरह प्रांतीय सरकार पुलिस को अपने राजनीतिक हितों को साधने के लिए इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने सत्तारूढ़ पार्टी के छात्र गुट के द्वारा किए गए हिंसा की भी निंदा की है।
समर ने कहा कि पेशावर यूनिवर्सिटी में पख्तून स्टूडेंट फेडरेशन के कार्यकर्ताओं पर इंसाफ स्टूडेंट फेडरेशन के द्वारा गोलीबारी और की गई हिंसा की वे कड़ी निंदा करते हैं। उन्होंने कहा कि इंसाफ स्टूडेंट फेडरेशन के कार्यकर्ता खुलेआम हथियार दिखा रहे थे और सरकार के समर्थन तले हिंसा फैला रहे थे। पीएसएफ कार्यकर्ताओं के प्रति पुलिस का रवैया निश्चित ही दुर्भाग्यपूर्ण था।
उल्लेखनीय है कि पश्तून जिनको पख्तून भी कहा जाता है, का पाकिस्तान सेना के द्वारा प्रतिदिन नरसंहार किया जाता है। तमाम पश्तून नागरिकों की हत्या की जा चुकी है और कईयों को बलपूर्वक गायब कर दिया गया।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Bollywood : अमिताभ बच्चन और अजय देवगन स्टारर फिल्म ‘मेडे’ में अंगिरा धर की हुई एंट्री

अमिताभ बच्चन व अजय देवगन स्टारर फिल्म 'मेडे' की हाल ही में घोषणा हुई थी। फिल्म में ये दोनों अभिनेता लीड रोल में है।...

Bollywood : कंगना रनौत का बड़ा बयान- दिलजीत दोसांझ को बताया करण जौहर का पालतू

फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के लिए चर्चा में रहना कोई नई बात नहीं है। अपने बेबाक बयानों के कारण जानी जाने वाली कंगना हर...

Farmers protest : चौथे दौर में भी नहीं बनी बात, किसानों से सरकार की फिर होगी बात

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों की मुखालफत कर रहे किसानों ने सरकार के साथ वार्ता के दौरान ऑफर किया गया न खाना खाया...

MLC चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 ग्राउंड जीरो से

उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं 11 सीटों पर एमएलसी चुनाव के नतीजे आखरी दौर में चल रहे हैं 11 सीटों पर आखिरी राउंड...

किसानों पर शर्मनाक बल प्रयोग के लिए भारत सरकार माफी मांगे- रामगोविन्द चौधरी

- आंदोलन में प्राणों की आहुति देने वाले किसानों को दे शहीद का दर्जा - कृषि सम्बन्धी नए काले कानूनों को तत्काल ले वापस - MSP...