Friday, December 4, 2020

कोरोना काल में जारी रहीं एनसीपीयूएल की सरगर्मियां : निदेशक डॉ. शेख अकील

Must read

कार्तिक पूर्णिमा पर कोरोना की फिक्र नहीं, पटना के गंगा घाट पर उमड़ी भीड़

देश के कई राज्यों में कोरोना की वापसी और बिहार में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार और प्रशासन लगातार लोगों से...

लखनऊ के सांसद, देश के रक्षा मंत्री का लखनऊ दौरा आज

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज अपने संसदीय क्षेत्र लखनऊ के दौरे पर आ रहे हैं, मिली सूचना के मुताबिक राजनाथ सिंह शाम...

Breaking news : सिंधु बॉर्डर पर किसानों की बैठक खत्म, बुराड़ी जाने का केंद्र का प्रस्ताव ठुकराया

केंद्र द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में विरोध प्रदर्शन करने आ रहे हजारों किसान एक और सर्द रात सड़क पर बिताने...

शेहला रशीद : पिता पर लगाए इल्जाम , इसलिए पिता ले रहे है बदला !

स्टूडेंट एक्टिविस्ट शेहला रशीद ने पिता पर मां से मारपीट के आरोप लगाए है और पिता ने शेहला पर देश विरोधी कामों के आरोप...

नई दिल्ली। कोविड-19 महामारी की वजह से लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन में लगभग सभी गतिविधियां थमी सी रहीं लेकिन केन्द्रीय शिक्षा मंत्रालय के तहत काम करने वाले राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद (एनसीपीयूएल) ने पहले दिन से ही न केवल अपने काम को जारी रखा बल्कि इसे गति देने का दृढ़ निश्चय किया है। इसके तहत एनसीपीयूएल ने टेक्नोलॉजी का सहारा लिया और देशभर में फैले अपने नेटवर्क में पठन-पाठन का काम सुचारु रखा।
एनसीपीयूएल में लॉकडाउन और अन-लॉक के दौरान देशभर में ऑनलाइन सेमिनार, वेबिनार, मीटिंग आदि का आयोजन करके हजारों लोगों के साथ जुड़कर उर्दू भाषा के विकास और उत्थान के लिए रणनीति बनाकर काम किया है। इसके जरिए संचालित होने वाले कंप्यूटर सेंटर और उर्दू, फारसी, अरबी सेंटरों में पढ़ने वाले बच्चों को ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देने का काम किया गया है।
एनसीपीयूएल के निदेशक डॉ. शेख अकील अहमद का कहना है कि लॉकडाउन ने हमें और भी बेहतर तरीके से काम करने और अपने नेटवर्क की सही तरीके से निगरानी करने का अवसर प्रदान किया। उनका कहना है कि जहां संस्थान की तरफ से एक सेमिनार आयोजित करने के लिए काफी समय लगाना पड़ता है वहीं नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके चंद दिनों में ही हजारों लोगों तक अपनी बात पहुंचाई जा सकती है और सेमीनार और मीटिंग वगैरह करके उसे अच्छी तरह से आयोजित किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि इस तरह के कार्यों में समय और धन का भी कम इस्तेमाल हो रहा है।
राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद केन्द्रीय शिक्षा मंत्रालय के तहत काम करता है। परिषद को मंत्रालय की तरफ से उर्दू भाषा के विकास और उत्थान के लिए सालाना 84 करोड़ रुपये का बजट दिया गया। परिषद का मुख्य कार्य देश में उर्दू भाषा का प्रचार प्रसार करना है। कौंसिल के डायरेक्टर शेख अकील के अनुसार लॉकडाउन के दौरान भी परिषद ने अपना काम बंद नहीं किया बल्कि नई तकनीक का इस्तेमाल करके ऑनलाइन सेमिनार, वेबिनार और मीटिंग आदि का आयोजन करते हुए अपने पूरे नेटवर्क को सुचारू रूप से जारी रखा। अपने कंप्यूटर सेंटर और उर्दू ,फारसी, अरबी सेंटरों में पढ़ने वाले बच्चों को ऑनलाइन माइक्रोसॉफ्ट मीट के माध्यम से शिक्षा देने का काम किया है। इसके अलावा ऑनलाइन सेमिनार, वेबिनार और मीटिंग आदि का आयोजन गूगल मीट सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके किया गया है।
परिषद का नेटवर्क देश के 27 राज्यों में फैला हुआ है। पिछले दो सालों में परिषद ने अपने स्तर पर दो अंतरराष्ट्रीय सेमिनार के साथ साथ 28 राष्ट्रीय स्तर के सेमिनार का आयोजन किया है। इसके अलावा विभिन्न गैर सरकारी संगठनों को 3 करोड़ की अनुदान राशि प्रदान करके 933 सेमिनार का आयोजन देशभर में किया गया है। परिषद की तरफ से देश भर में 2876 सेंटरों पर उर्दू, फारसी, अरबी और कैलीग्राफी के सर्टिफिकेट कोर्स कराए जाते हैं। इसके साथ ही 536 केन्द्र पर कंप्यूटर कोर्स कराया जा रहा है। इन सब सेंटरों की निगरानी करना और यह देखना कि वहां पर पठन-पाठन का काम सही तरीके से चल रहा है या नहीं। यह बहुत ही चुनौती भरा काम था मगर तकनीक का इस्तेमाल करके ऑनलाइन सुविधाएं उपलब्ध करा कर लॉकडाउन के दौरान इसे आसानी से पूरा किया गया है।
परिषद के निदेशक का कहना है कि लॉकडाउन ने हमारे कामों को आसान बनाने का काम किया है। उन्होंने बताया कि दिल्ली में बैठकर पूरे देश में चल रहे कार्य की निगरानी आसान नहीं है लेकिन हमने ऑनलाइन सुविधाएं उपलब्ध कराने के बाद देखा कि निगरानी का काम बहुत ही अच्छे तरीके से किया जा सकता है। दिल्ली में बैठकर हमारे अधिकारी किसी भी सेंटर में क्या चल रहा है, उसे देख सकते हैं और उन्हें निर्देश भी दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे केन्द्रीय शिक्षा मंत्री डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि देश भर में उर्दू भाषा के विकास और उत्थान के लिए काम किया जाए। बजट की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। इसीलिए परिषद अपनी पूरी ताकत के साथ काम कर रहा है और हमारे काम में लॉकडाउन ने भी कोई रुकावट पैदा नहीं की है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Bollywood : अमिताभ बच्चन और अजय देवगन स्टारर फिल्म ‘मेडे’ में अंगिरा धर की हुई एंट्री

अमिताभ बच्चन व अजय देवगन स्टारर फिल्म 'मेडे' की हाल ही में घोषणा हुई थी। फिल्म में ये दोनों अभिनेता लीड रोल में है।...

Bollywood : कंगना रनौत का बड़ा बयान- दिलजीत दोसांझ को बताया करण जौहर का पालतू

फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के लिए चर्चा में रहना कोई नई बात नहीं है। अपने बेबाक बयानों के कारण जानी जाने वाली कंगना हर...

Farmers protest : चौथे दौर में भी नहीं बनी बात, किसानों से सरकार की फिर होगी बात

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों की मुखालफत कर रहे किसानों ने सरकार के साथ वार्ता के दौरान ऑफर किया गया न खाना खाया...

MLC चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 ग्राउंड जीरो से

उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं 11 सीटों पर एमएलसी चुनाव के नतीजे आखरी दौर में चल रहे हैं 11 सीटों पर आखिरी राउंड...

किसानों पर शर्मनाक बल प्रयोग के लिए भारत सरकार माफी मांगे- रामगोविन्द चौधरी

- आंदोलन में प्राणों की आहुति देने वाले किसानों को दे शहीद का दर्जा - कृषि सम्बन्धी नए काले कानूनों को तत्काल ले वापस - MSP...