Friday, February 26, 2021

जानिए पंचायत चुनाव को किस चीज ने बनाया इतना रोचक

Must read

ग्लेसियर फटने से मची भीषण तबाही 25 लोगों की जान बचाने वाली महिला को समाजवादी पार्टी में किया गया सम्मानित

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आज समाजवादी पार्टी उत्तराखण्ड की ओर से उत्तराखण्ड में ग्लेसियर फटने...

छत्तीसगढ़ के औद्योगिक विकास के लिए मांगा विशेष पैकेज

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के औद्योगिक विकास के लिए विशेष पैकेज की मांग करने के साथ ही एनएमडीसी के नगरनार संयंत्र...

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने की हरिद्वार कुंभ मेले पर समीक्षा बैठक

उत्तराखंड: पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने देहरादून के पुलिस मुख्यालय में यूपी, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, चंडीगढ़, एनआईए के अधिकारियों समेत प्रदेश के वरिष्ठ पुलिस...

राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने महिलाओ केे लिए निकाली नई योजना जिससे मिल सकता अच्छा रोजगार

 मध्यप्रदेश के परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा है कि महिला स्वसहायता समूहों को गौ-शाला संचालन का काम सौंपा जायेगा। राजपूत जिले...

वाराणसी. उत्तर प्रदेश  में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव  को लेकर सरगर्मी तेज होने लगी है. अब अपनी-अपनी जीत पक्की करने के लिए नेता लोग मैदान में उतर गए हैं. वे दिन- रात मेहन कर प्रचार कर रहे हैं.

लेकिन इस बार गांव के चुनाव में सोशल मीडिया भी अहम भूमिका निभा रहा है. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तारीखें भले ही अभी घोषित नहीं हुई हों पर प्रत्याशी से लेकर उनके समर्थक तक सोशल मीडिया  के द्वारा जमकर प्रचार कर रहे हैं. एक शब्द में कहें तो त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में भी लोकसभा चुनाव की तरह सोशल मीडिया के द्वारा प्रचार किया जा रहा है.

कहा जा रहा है कि गावों में पहली बार त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की धमक सोशल मीडिया पर देखने को मिल रही है. ग्राम प्रधान से लेकर जिला पंचायत सदस्य तक के दावेदार सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं. ये दावेदार सुबह-सुबह ‘सुप्रभात’ से लेकर देर रात ‘गुड नाइट’ का मैसेज भी मतदाताओं तक भेज रहे हैं.

ये भी पढ़े – पंचायत चुनाव को लेकर आम आदमी दिख रही सक्रिय

यहां तक के अधिकांश संभावित प्रत्याशी गाव-क्षेत्र को विकसित कराने के दावे भी मोबाइल से कर रहे हैं. इसके अलावा सोशल मीडिया पर आरोप-प्रत्यारोप और वाक युद्ध भी जारी है. खुद को अव्वल बताने में कोई भी कोर-कसर छोड़ने को तैयार नहीं. इस आभासी नूरा-कुश्ती से गंवई सियासत भी खूब दिलचस्प हो गई है.


जानकारी के मुताबिक, अधिकांश संभावित दावेदारों के समर्थकों ने वाट्सअप और फेसबुक पर ग्रुप बना लिया है. इसके लिए वे ग्रुप के द्वारा ही अपने-अपने नेता का प्रचार कर रहे हैं. साथ ही समर्थक वाट्सएप पर अपने ग्रुप से अधिकतम लोगों को जोड़ रहे हैं,

ताकि मतों का आकलन या अनुमान सही प्रकार से कर सकें. इन ग्रुपों में जैसे ही कोई समर्थक अपने पक्ष वाले प्रत्याशी की जीत का दावा करता है, वैसे ही अन्य दावेदार व उनके समर्थक इस पर कटाक्ष शुरू कर देते हैं. खास बात यह है कि इस ग्रुप में समर्थक दूसरे प्रत्याशियों के नाकामियों के बारे में भी सूचनाएं शेयर करते हैं.

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

भाजपा राज में जनता कराहने लगी-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में जनता कराहने लगी है। मंहगाई के चूल्हे...

पुलिस ने की माल में चोरी, देखिए ये वीड़ियो

वर्दी के नीचे कई शर्ट पहन कर चोरी कर ले जा रहा गोमतीनगर विस्तार का चोरकट सिपाही मेटल डिटेक्टर से पकड़ा गया,कर्मचारियों ने की...

पूर्वांचल दौरे पर अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं ने जोरदार किया स्वागत

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव वाराणसी पहुंच गए। वह तीन दिन के पूर्वांचल के दौरे पर आए हैं। वाराणसी एयरपोर्ट...

पारंपरिक ऐपण कलाकृति को मिल रहा नया आयाम

उत्तराखंड की पारंपरिक ऐपण कलाकृति को नया आयाम मिल रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हालिया दिल्ली दौरे पर केंद्रीय मंत्रियों को ऐपण...

फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी में कैसे ली Alia ने फिल्म में एंट्री

बॉलीवुड फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ (Gangubai Kathiawadi) का टीज़र हाल ही में रिलीज किया गया जिसमें आलिया भट्ट (Alia...