Tuesday, March 2, 2021

जानिए आपके बच्चे को कैसे अँधा कर सकता है हैंड सैनिटाइजर

Must read

गोवा में कैसिनो शिप पर अपना मुकाबला लड़ेंगे विजेंद्र

नयी दिल्ली, भारत के अपराजित स्टार मुक्केबाज और ओलंपिक पदक विजेता विजेंद्र सिंह कोरोना महामारी के कारण करीब एक साल के लंबे अंतराल के...

कोरोना सक्रिय मामले घटकर 51300 के करीब

केरल में कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या शुक्रवार को 485 और घटकर 51,300 के करीब पहुंच गयी। केरल में पिछले...

हत्याकांड को अंजाम देने वाले आठ रिश्तेदार गिरफ्तार

 झारखंड में गुमला जिले के कामडारा इलाके में कुछ दिन पूर्व एक ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या के मामले में आठ रिश्तेदारों...

राजस्व लेखाकार की हत्या से कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ में रोष

हमीरपुर - राजस्व लेखाकार की हत्या से कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ में रोष, गिरफ्तारी की मांग को लेकर जिलाधिकारी को सौपा ज्ञापन, गिरफ्तारी न होने पर कार्य...

पेरिस, कोरोना वायरस से बचाव के लिए दुनियाभर में लोग अल्‍कोहॉल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल कर रहे हैं। फ्रांस में हुए ताजा शोध के मुताबिक साल 2020 में वर्ष 2019 की अपेक्षा बच्‍चों के घायल होने की घटनाएं 7 गुना बढ़ गई हैं। इसमें काफी ज्‍यादा मामले आंखों के खराब होने के हैं। अब शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि अगर गलती से सैनिटाइटर बच्‍चों की आंख में चला जाए तो यह उन्‍हें अंधा कर सकता है।

सैनिटाइजर से जुड़ी हो चुकी है इतनी घटनाये

फ्रेंच प्‍वाइजन कंट्रोल सेंटर के डेटाबेस के मुताब‍िक एक अप्रैल 2020 से 24 अगस्‍त के बीच सैनिटाइजर से जुड़ी घटनाओं की संख्‍या 232 रही जो पिछले साल 33 थी। कोरोना वायरस से बचाव के लिए दुनियाभर में सैनिटाइजर के इस्‍तेमाल पर जोर दिया जा रहा है। करीब 70 फीसदी अल्‍कोहॉल वाले सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल बहुत तेजी से बढ़ा है। सैनिटाइजर कोरोना वायरस का खात्‍मा कर देता है।

ये भी पढ़ें –इंदौर में कोरोना से एक मौत, इतने नए मामले आए सामने

इसी वजह से बढ़ा सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल

इसी वजह से दुकानों, ट्रेनों, घरों में हर जगह सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल बढ़ा है। शोधकर्ताओं ने कहा, ‘अल्‍कोहॉल आधारित हैंड सैनिटाइजर मार्च 2020 से लेकर अब तक बड़े पैमाने पर खासतौर पर बच्‍चों में इस्‍तेमाल किया जा रहा है।’ भारतीय शोधकर्ताओं का भी कहना है कि सैनिटाइजर को बच्‍चों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। ऐसे दो मामले आए हैं जब बच्‍चों की आंखों में सैनिटाइजर चला गया और उन्‍हें अस्‍पताल ले जाना पड़ा।’

छोटे बच्चों से रखे दूर 

डॉक्‍टरों ने कहा कि छोटे बच्‍चों में सैनिटाइजर के आंखों में जाने से गंभीर रूप से बीमार होने या अंधे होने का खतरा रहता है। ज्‍यादातर सार्वजनिक जगहों पर सैनिटाइजर कम ऊंचाई पर रखे गए हैं जिससे उनके बच्‍चों की आंखों में जाने का खतरा रहता है। उन्‍होंने कहा कि हम सलाह देंगे कि बच्‍चों को सैनिटाइजर लगाने में बड़े मदद करें। साथ ही कोशिश करें कि कोरोना से बचाव के लिए हाथ धोने की प्रक्रिया को प्राथमिकता दें।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार के बेरोजगारी के झूठे आंकड़ो के लगाए आरोप

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार के बेरोजगारी के झूठे आंकड़े का आरोप लगाते हुये कहा कि प्रदेश में बेरोजगारी...

60 नर्सिंग कॉलेजों को दिए गए सहमति पत्र

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में उत्‍तर प्रदेश को दूसरे राज्‍यों से आगे रखने वाले मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाओं को और भी...

प्रदेश कार्यालय में हुई भाजपा की संगठनात्मक बैठक

राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रदेश कार्यालय में आज पार्टी की संगठनात्मक बैठक हुई, जिसे राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी अरूण सिंह, प्रदेशाध्यक्ष...

पुलिस ने एक फैक्ट्री से लूट की वारदात के सात आरोपियों को गिरफ्तार किया

 राजस्थान में अलवर जिले के खुशखेड़ा थाना क्षेत्र में पुलिस ने एक फैक्ट्री से लूट की वारदात के सात आरोपियों को गिरफ्तार कर 20...

जानिए योगी ने नन्हे छात्रों से क्या कहा

कोरोना संक्रमण के कारण 11 महीनों से बंद चल रहे उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालय सोमवार को बच्चों की किलकारियों से गूंजने लगे। सजे...