Monday, January 18, 2021

झुक गया पाक, अब करतारपुर कॉरिडोर पर भारत से बात करेगा

Must read

अखिलेश यादव ने विधान परिषद प्रत्याशियों के नाम पर लगाई मुहर, ये है नाम

उत्तर प्रदेश में विधान परिषद की 12 सीट पर 28 जनवरी को होने वाले मतदान से पहले सोमवार को चुनाव की अधिसूचना जारी कर...

गायक अखिल का नया रिलीज, फैंस ने दिया ऐसा रिएक्शन

मुंबई,  सोनी म्यूजिक इंडिया ने अखिल का नया गाना दूजा प्यार रिलीज किया। अखिल का यह गाना पहले प्यार के इर्द-गिर्द की भावनाओं को और...

कोटा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य ने सबसे पहले लगवाया कोरोना टीका

कोटा,  राजस्थान में कोटा संभाग में कोटा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. विजय सरदाना ने सबसे पहले कोरोना टीका लगवाया। डॉ. विजय सरदाना ने...

Uttar Pradesh में होने वाले पंचायत चुनाव में सीमित हुई प्रत्याशियों की संख्या

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (Panchayat Election 2021) के लिए अभी तारीखों ऐलान भले ही नहीं हुआ है, लेकिन तैयारियों को लेकर...

कश्मीर को लेकर भारत पाक के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। बिगड़ती स्थिति में भी दोनों देशों के बीच करतारपुर कॉरिडोर(Kartarpur Corridor) को लेकर एक बैठक होने जा रही है। शुक्रवार को दोनों देशों के अधिकारी मिल कर करतारपुर गलियारा परियोजना पर बातचीत करेंगे। पाकिस्तान विदेश कायार्लय के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल(Mohd. Faizal) ने दोनों पक्षों के बीच बोर्डर स्थित जीरो प्वाइंट पर तकनीकी बैठक होने की पुष्टि की।

पाकिस्तानी विदेश कार्यालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने कहा कि, ‘करतारपुर गलियारे पर तकनीकी बैठक जीरो प्वाइंट पर होगी।’ उन्होंने कहा, ‘भारत ने पाकिस्तान के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है और करतारपुर साहिब गलियारे पर तकनीकी बैठक जीरो प्वाइंट पर 30 अगस्त को आयोजित की जा रही है।’ इसके आगे उन्होंने कहा कि,’पाकिस्तान अपने प्रधानमंत्री की घोषणा अनुसार, करतारपुर साहिब गलियारे को पूरा करने और इसका उद्घाटन करने को लेकर प्रतिबद्ध है।’ पाकिस्तान ने कहा है कि वह सीमापार करतारपुर गलियारा परियोजना का काम जारी रखेगा और सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर नवंबर में इसे खोलेगा।

पहला वीजा मुक्त कॉरिडोर

आपको बता दें कि जीरो प्वाइंट वह जगह है जहां पर इस गलियारे का भारतीय हिस्सा और पाकिस्तानी हिस्सा एक साथ मिलेंगे। अधिकारियों की बैठक इसी जगह पर होगी। दरअसल करतारपुर गुरुद्वारा जहाँ एक तरफ पाकिस्तान की रावी नदी(Ravi River) के तट पर स्थित है, वहीँ दूसरी तरफ ये भारत के गुरुदासपुर जिला स्थित डेरा बाबा नानक श्राइन से करीब चार किलोमीटर दूर है और यह लाहौर(Lahore) से करीब 120 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में अवस्थित है। करतारपुर गलियारा पाकिस्तान के करतारपुर में दरबार साहिब को गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ेगा। इसके जुड़ने से भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को बिना किसी वीजा के दर्शन करने की इजाजत देगा। सिख तीर्थयात्रियों को करतारपुर साहिब जाने के लिए केवल अनुमति लेनी होगी। करतारपुर साहिब की स्थापना गुरू नानक देव ने 1522 में की थी। दिलचस्प बात होगी कि आजादी के बाद से यह गलियारा दोनों पड़ोसी देशों के बीच पहला वीजा मुक्त(VISA free) कॉरिडोर भी होगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अखिलेश यादव ने कहाँ, भाजपा राज में लूट की अनन्त कथायें

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा षडयंत्रकारी जातिवादी पार्टी है। उसका काम नफरत फैलाना...

मुजफ्फरनगर का सरकारी अस्पताल बन गया शराबियों का अड्डा

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पताल पर पिछले दिनों एक विवादित बयान आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती का आया था। जिसके बाद से सियासी...

Britain के PM बोरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री मोदी को दिया G-7 का न्यौता

इस वर्ष ब्रिटेन के कार्नवाल में G-7 शिखर सम्मेलन होने वाला है। इस दौरान जलवायु परिवर्तन को लेकर विशेष रूप से बात होगी। ब्रिटेन के...

राजस्थान बस हादसे पर PM मोदी ने जताया दुख

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के जालौर जिले में बस हादसे में छह लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है। श्री...

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए BJP के राजेन्द्र भांबू ने दिया 1 करोड़

झुंझुनूं : श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि संग्रहण अभियान के तहत झुंझुनूं जिला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र भांबू ने एक...