Wednesday, April 14, 2021

अब कर्नाटक का ये बीजेपी सांसद हुआ जातिवाद का शिकार? दलित होने के चलते नो एंट्री!

Must read

आरटीआई के तहत दस्तावेज देने के लिए मांगे 13 लाख 20 हजार रूपए

रायपुर छत्तीसगढ़ में सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत छत्तीसगढ़ राज्य अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण(क्रेडा)ने जानकारी देने के लिए आवेदक को 13 लाख रूपए...

जाने क्यो हेमन्त से मास्टर विराट माकन ने मुलाकात की

रांची,  झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज कराने वाले सात वर्षीय मास्टर विराट माकन ने गुरूवार...

हीट वेव की चपेट में बिहार के 14 जिले, दो दिन बाद राहत

पटना  पश्चिमी क्षेत्र से आने वाली गर्म हवाओं से बिहार के चौदह जिले आज से हीट वेव की चपेट में आ सकते हैं। मौसम विज्ञान...

किशनगंज के नगर थाना प्रभारी की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या

किशनगंज,  बिहार में किशनगंज जिले के नगर थाना प्रभारी की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी। पुलिस सूत्रों ने शनिवार को यहां बताया...

देश मे जातिवाद को खत्म करने को लेकर कई काम किये जा रहे हैं लेकिन यह खत्म होता नही दिख रहा हैं। कर्नाटक की चित्रदुर्ग सीट से बीजेपी सांसद ए. नारायणस्वामी(A Narayanswamy) को जातिगत भेदभाव का शिकार होना पड़ा है। ए. नारायणस्वामी(A Narayanswamy) को गोलारहट्टी गांव में घुसने की इजाजत नहीं दी गई। यह घटना तुमकूर जिले के पवागड़ा में हुई।

बीजेपी(BJP) सांसद ए. नारायणस्वामी(A Narayanswamy) का आरोप है कि वे अधिकारियों के साथ गोला समुदाय के गांव गोलारहट्टी गए थे, वहां कुछ लोगों ने कहा कि आप अनुसूचित जाति से हैं, इसलिए आपको प्रवेश की अनुमति नहीं है। इस मामले में पुलिस अधीक्षक ने जांच के आदेश दिए हैं।

गोलारहट्टी में किसी दलित या निचली जाति के व्यक्ति का प्रवेश वर्जित

गोलारहट्टी में पहले से मौजूद कुछ लोगों ने नारायणस्वामी(A Narayanswamy) से लौट जाने को कहा। इन लोगों का कहना था कि गोलारहट्टी में किसी दलित या निचली जाति के व्यक्ति का प्रवेश वर्जित है। नारायणस्वामी दलित हैं जबकि गोला समुदाय अन्य पिछड़ी जाति से आते हैं।

सांसद नारायणस्वामी का बयान

चित्रदुर्ग के सांसद नारायणस्वामी से वहां मौजूद लोगों ने कहा कि इस गांव में अब तक किसी पिछड़ी जाति के व्यक्ति को प्रवेश की इजाजत नहीं मिली है। दोनों पक्षों की ओर से मामूली बहस के बाद सांसद नारायणस्वामी वहां से निकल गए| बाद में पुलिस ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं।

पुलिस जुटी है जांच में

स्थानीय एसपी ने कहा कि अब तक यह साफ नहीं है कि सांसद को रोकने वाले लोग कौन थे। पुलिस के मुताबिक, उन लोगों की पहचान की जा रही है जिन्होंने सांसद को गोलारहट्टी में जाने से रोका था। एक पुलिस इंस्पेक्टर को जांच करने का आदेश दिया गया है। पुलिस को अब तक यही ता है कि दूसरे समुदाय के कुछ लोगों ने सांसद को वहां रोका था।

- Advertisement -

More articles

Latest article

मंदिर में शादी कर लांखो की नकदी और जवैलरी लेकर रफूचक्कर हुई लूटेरी दुल्हन

जनपद मुज़फ्फरनगर के थाना भौरा कलां क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर रायसिंह निवासी किसान देवेंद्र मलिक एक महिला और एक रिस्तेदार के हाथों ठगी का...

अजमेर में भगवान झूलेलाल की ज्योत एवं प्रतिमा का जुलूस निकाला

अजमेर,  राजस्थान में अजमेर में सिंधी समाज के इष्टदेव भगवान झूलेलाल के अवतरण दिवस चेटीचंड के मौके पर आज भगवान झूलेलाल की ज्योत एवं...

राजनांदगांव में कोरोना संक्रमण बढ़ा, सुविधाओं को हो रहा विस्तार

राजनांदगांव,  छत्तीसगढ़ की राजनांदगांव नगर पालिका सहित जिले में एक ही दिन में 1284 कोरोना संक्रमित मरीज सामने आये और लगभग दर्जनभर लोगों की...

जीटीए का स्थायी राजनीतिक समाधान निकाला जायेगा: शाह

लेबोंग,  केंन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को दार्जिलिंग हिल्स के लोगों को आश्वासन दिया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन...

एम्स में खाली बेड कोरोना मरीजों के लिए-शिवराज

भोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकरण के संबंध में चिंता जाहिर करते हुए कहा कि...