Thursday, April 15, 2021

‘आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग जरूरी’

Must read

पिकअप और ट्रक में हुए जबरजस्त भिड़ंत, 4 लोगों की जल कर मौत

Breaking-कुशीनगर -- - पिकअप और ट्रक में हुए जबरजस्त भिड़ंत बाद लगी आग - देर रात हुई घटना में धू-धूकर जला ट्रक और पिकअप ड्राइवर व...

पुतिन-बाइडेन की बैठक की मेजबानी के लिए आस्ट्रिया तैयार

विएना  आस्ट्रिया के विदेश मंत्रालय ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच संभावित बैठक पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते...

मोदी ने विभिन्न पर्वों पर देशवासियों को बधाई दी

नयी दिल्ली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवसियों को वैशाखी, उगादी, चेती चांद, गुड़ी पड़वा और साजिबु चेरोबा जैसे पर्वों पर बधाई दी है। मोदी ने...

बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट फैसला, ASI करेगा जांच

वाराणसी- वाराणसी से बड़ी ख़बर- बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट का बड़ा फैसला- कोर्ट ने ASI को आदेश जारी किये- कोर्ट ने आदेश...

नयी दिल्ली  भारत और मालदीव ने गुरुवार को आतंकवाद के सभी स्वरूपों की पुरजोर निंदा की और इससे निपने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने की आवश्यकता बताई।

आतंकवाद के मुद्दे पर भारत-मालदीव के संयुक्त कार्यकारी समूह की पहली बैठक के बाद विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ” देशों ने इस बात पर जोर दिया कि सभी देश तत्काल, सतत, सत्यापन योग्य कार्रवाई करें ताकि उनके नियंत्रण वाले किसी क्षेत्र का इस्तेमाल दूसरे देश पर आतंकवादी हमलों के लिए नहीं किया जाए तथा ऐसे हमलों को अंजाम देने वालों को जल्द न्याय के कठघरे में लाया जाए।”

आतंकवाद निरोधक कार्रवाई, हिंसक उग्रवाद को रोकने तथा कट्टरपंथ को कम करने पर संयुक्त कार्यसमूह की इस बैठक में भारतीय पक्ष का नेतृत्व विदेश मंत्रालय में सचिव (पश्चिम) विकास स्वरूप ने किया, जबकि मालदीव के दल का नेतृत्व वहां के विदेश सचिव अब्दुल गफूर मोहम्मद ने किया। विदेश मंत्रालय ने बताया कि बैठक में दोनों देशों ने कट्टरपंथीकरण और हिंसक अतिवाद का मुकाबला करना, आतंकवाद के वित्तपोषण से रोकना, आतंकवाद और हिंसक चरमपंथ के लिए इंटरनेट के दोहन को रोकना, सूचना साझा करना, क्षमता निर्माण और पुलिस, सुरक्षा बलों, सीमा शुल्क, आव्रजन और अन्य संबंधित एजेंसियों के बीच संस्थागत संपर्क स्थापित करने सहित विभिन्न मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त किया। साथ ही दोनों देशों ने मादक पदार्थों और मादक पदार्थों की तस्करी के खिलाफ द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर विचार- विमर्श किया।
विदेश मंत्रालय ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) ने आतंकवाद, कट्टरता और हिंसक वारदातों से मुकाबला करने में जो चुनौतियां पेश की है, इस पर भी बैठक में चर्चा हुई। विदेश मंत्रालय ने कहा, “बैठक के दौरान दोनों पक्षों ने आपसी सहयोग को मजबूत करने पर सहमति व्यक्त की जिसमें सुरक्षा और कानून प्रवर्तन एजेंसियों और मालदीव की अन्य संबंधित एजेंसियों के लिए सहायता और क्षमता निर्माण शामिल होगा साथ ही साथ आतंकवाद तथा हिंसक चरमपंथ को रोकने और उनका मुकाबला करने के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं के आदान-प्रदान में सहयोग शामिल है। “

- Advertisement -

More articles

Latest article

देश कोरोना भट्टी में जल रहा है, मोदी बंगाल चुनाव प्रचार मे व्यस्त: प्रमोद तिवारी

प्रयागराज कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व राज्य सभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने आज कहा कि देश कोरोना की भट्टी में सुलग रहा है...

मिश्र ने देशी गौवंश आधुनिक दुग्धशाला का किया उद्घाटन

जयपुर,  राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने आज यहां राजभवन में देशी गौवंश आधुनिक दुग्धशाला का उद्घाटन किया।इससे पहले  मिश्र ने राजस्थान पशु चिकित्सा...

सीबीएसई दसवीं की परीक्षाएं रद्द, बारहवीं की स्थगित

नयी दिल्ली, केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड) सीबीएसई की दसवीं की परीक्षाओं को...

राकेश टिकैत को जान से मारने की मिली धमकी

लखनऊ  तीनों कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे आंदोलन का नेतृत्व करने वाले भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत को एक युवक...

योगी ने कहा ,नहीं होगा उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन

लखनऊ  देश के साथ उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रसार के बाद भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश...