Sunday, January 17, 2021

आईएमएफ ने अर्थव्यवस्था पर जो कहा है, उसे सुनकर मोदी सरकार के माथे पर पड़ जाएंगे बल

Must read

Athens: यूनानी प्रधानमंत्री ने चुनाव की संभावनाओं को किया खारिज

Athens: यूनान के प्रधानमंत्री किरियाकोस मित्सोटाकिस ने कहा है कि 2021 में चुनाव नहीं होंगे तथा सरकार अपने चार वर्ष के कार्यकाल तक काम...

कर्नाटक में दो वाहनों में भीषड़ टक्कर, इतने लोगों की मौत, कई घायल

धारवाड:  कर्नाटक में धारवाड जिले के इटागट्टी के पास शुक्रवार तड़के टैम्पो और टिप्पर में टक्कर होने से कम से कम 11 लोगों की...

Shivraj ने विवेकानंद जयंती पर स्मरण करते हुए, कह दी ऐसी बात

भोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विवेकानंद जयंती पर आज उनका स्मरण करते हुए उनके प्रति नमन किया है। Shivraj ने अपने ट्वीट ...

New Delhi: देशवासियों को लोहड़ी, मकर सक्रान्ति, बिहू, पोंगल की कोविंद ने दी बधाई

NewDelhi ,  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को लोहड़ी, मकर संक्रान्ति, पोंगल, भोगाली बिहू, उत्‍तरायण और पौष पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। NewDelhi...

भारतीय अर्थव्यवस्था(Indian Economy) को लेकर जहाँ केंद्र सरकार जनता को आश्वासन देने में लगी है, वहीँ इस मुद्दे को दुनिया ने चिंताजनक बता दिया है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष(International Monetary Fund) ने गुरुवार को भारत की आर्थिक वृद्धि को उम्मीद से ‘काफी कमज़ोर’ बताया है। आईएमएफ(IMF) ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए घरेलू मांग के लिए भारत का आर्थिक विकास ‘उम्मीद से कमजोर’ होने के कारण इसके आंकड़ों को 0.3 प्रतिशत घटाकर 7 प्रतिशत पर रखा है।

आईएमएफ ने गुरुवार को कहा कि कॉरपोरेट एवं पर्यावरणीय नियामक की अनिश्चितता एवं कुछ गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों की कमजोरियों के कारण भारत की आर्थिक वृद्धि उम्मीद से ‘काफी कमजोर’ है। आईएमएफ प्रवक्ता गेरी राइस ने कहा, ‘हाल के जीडीपी आंकड़े भारत के लिए धीमी आर्थिक विकास का संकेत देते हैं। हमारे पास जल्द ही नए आंकड़े आएंगे। हम नए आंकड़े पेश करेंगे लेकिन खासकर कॉरपोरेट एवं पर्यावरणीय नियामक की अनिश्चितता एवं कुछ गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों की कमजोरियों के कारण भारत में हालिया आर्थिक वृद्धि उम्मीद से काफी कमजोर है।’ हालांकि आईएमएफ ने यह भी कहा है कि सुस्ती के बावजूद चीन से विकास के मामले में भारत आगे रहेगा और दुनिया की सबसे तेज विकास करने वाली अर्थव्यवस्थाओं में बना रहेगा।

आईएमएफ ने दिया था संकेत

गौरतलब है कि आईएमएफ ने जुलाई में 2019 और 2020 के लिए धीमे विकास दर का अनुमान लगाया था। आईएमएफ ने कहा था कि इन दोनों सालों में भारत की आर्थिक विकास दर में 0.3 फीसदी गिरावट होगी और 2019 में भारत की विकास दर 7 प्रतिशत और 2020 में 7.5 प्रतिशत रहेगी। लेकिन अब इसे घटाकर 7.2 फीसदी तक बताई जा रही है। और सरकारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल से जून तिमाही में भारत की आर्थिक विकास दर सात साल के निचले स्तर 5 फीसदी तक पहुंच गई है। वहीँ भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार आर्थिक विकास दर में गिरावट मैन्युफैक्चरिंग और कृषि के क्षेत्र में कमी की वजह से आई है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

लखनऊ में विभूतिखंड गैंगवार के मददगार के ऊपर 25-25 हजार का ईनाम घोषित

लखनऊ के विभूतिखंड में अजीत सिंह की हत्या में शामिल शूटरों की मदद करने के आरोपी आजमगढ़ के अंकुर व बंधन पर पुलिस ने...

जानें पंचायत चुनाव के प्रत्याशियों की जमानत और चुनाव खर्चे कितने हुए तय?

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव (UP Panchayat election) को लेकर अभी से ग्रामीण इलाकों में माहौल बनाने का काम शुरू हो गया है. प्रधान पद...

बिल गेट्स बढ़े किसानी की ओर, जानें अमेरिका में कितनी खरीदी जमीन

देश की राजधानी दिल्ली में जहां करीब 2 महीने से किसान आंदोलन कर रहे हैं। नये कृषि कानून से पूंजीपतियों पर जमीन हड़पने का...

Maharashtra में 18 तक टीकाकरण नहीं, Co-Win में हुई गड़बड़

कोरोना वायरस टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत के मौके पर शनिवार को देश के जाने माने डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन के टीके लगाए...

EU ने सीरियाई विदेश मंत्री पर लगाया प्रतिबन्ध, ईरान कर रहा आलोचना

तेहरान : ईरान ने यूरोपीय संघ द्वारा सीरिया के नए विदेश मंत्री फैसल मेकड पर प्रतिबंध लगाए जाने आलोचना की है। ईरान के विदेश मंत्रालय...