मोदी के सबसे बड़े दुश्मन IPS को मिली उम्र कैद!

0
144

हिरासत में मौत मामले में गुजरात के जामनगर कोर्ट ने बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को दोषी करार दिया है | अब कोर्ट ने उन्हें उम्रकैद की सजा सुना दी है | 1990 में जामनगर में भारत बंद के दौरान हिंसा हुई थी| संजीव भट्ट उस वक्त जामनगर के एएसपी थे | इस दौरान 133 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया, जिनमें 25 लोग घायल हुए थे और आठ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था | न्यायिक हिरासत में एक आरोपी की मौत हो गई थी | उस वक्त भट्ट और उनके साथियों पर आरोपी के साथ मारपीट करने का आरोप लगा था | न्यायिक हिरासत में मौत के इस मामले में संजीव भट्ट और अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया गया था | लेकिन गुजरात सरकार ने मुकदमा चलाने की इजाजत नहीं दी | 2011 में राज्य सरकार ने भट्ट के खिलाफ ट्रायल की अनुमति दे दी |

जानकारी के मुताबिक साल 1990 में जामनगर में भारत बंद के दौरान हिंसा हो गई थी | उस समय पकड़े गए आरोपियों में प्रभुदास माधवजी वैश्नानी की मौत न्यायिक हिरासत में हो गई थी | प्रभुदास के परिजनों ने आरोप लगाया था कि संजीव भट्ट ने अपने साथियों के साथ प्रभुदास के साथ मारपीट की, जिसके कारण प्रभुदास की मौत हो गई |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here