Saturday, January 16, 2021

Farmers protest : चौथे दौर में भी नहीं बनी बात, किसानों से सरकार की फिर होगी बात

Must read

मध्य प्रदेश में बढ़ रहा बर्ड फ्लू का प्रकोप, 13 जिलों में हुई पुष्टि

भोपाल : मध्यप्रदेश में पशु पालन विभाग ने 9 जनवरी तक प्रदेश के 13 जिलों में कौवों में बर्ड फ्लू होने की पुष्टि की...

राम मंदिर निर्माण के लिए दान देते हुए कल्याण सिंह ने जताई ये इच्छा, आप भी जानें  

    लखनऊ: राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (kalyan singh) ने कहा कि उनकी अंतिम इच्छा...

शिल्पा शेट्टी ने इस गाने पर लगाए ठुमके, फैंस ने दिया हैरान करने वाला रिएक्शन

मुंबई, बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने अपनी बहन शमिता शेट्टी के साथ सुपरहिट गाना ‘बदन पे सितारे लपेटे हुए’ पर डांस किया है। शिल्पा शेट्टी...

स्वछता के लिए Mathura Refinery ने उठाया ये बड़ा कदम

मथुरा , Mathura Refinery ने सामाजिक उत्तरदायित्व को निभाते हुए ब्रज के प्रमुख तीर्थस्थलों की स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए मथुरा वृन्दावन विकास प्राधिकरण को...

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों की मुखालफत कर रहे किसानों ने सरकार के साथ वार्ता के दौरान ऑफर किया गया न खाना खाया और ही चाय पी। उन्होंने सरकार को अपना रुख जता दिया कि वे क्या चाहते हैं। फिर भी सरकार यही कोशिश करती दिखी कि किसान तीनों कानूनों के प्रति अपना नजरिया बदलें। दोपहर 12 बजे से शुरू हुई वार्ता 7.30 घंटे तक चली। लेकिन इस दौर में भी बात, बात ही रही। कोई समाधान नहीं निकला। अब 5 दिसम्बर को फिर दोनों पक्ष बैठेंगे। दोपहर करीब 12 बजे विज्ञान भवन में शुरू हुई यह बैठक देर शाम तक चली। करीब 3 बजे टी ब्रेक हुआ।

अपनी मांग पर अड़े किसानों ने नहीं खाया सरकार का खाना

लेकिन किसानों ने सरकार की ओर से पेशकश किया गया न खाना खाया और न ही चाय पी। बल्कि गुरुद्वारा बंगला साहब से आया खाना खाया और चाय पी। किसानों के इस रुख से मंत्रियों के माथे पर बल पड़ गया। बैठक में सरकार की ओर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्यमंत्री सोम प्रकाश शामिल थे तो किसानों की ओर से करीब 40 यूनियनों के प्रतिनिधि थे।

रात करीब 7.30 बजे बैठक खत्म हुई तो बाहर निकलते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पत्रकारों को बताया कि किसानों की ओर से जो मांगें और आपत्तियां दी गईं, उन पर बिंदुवार वार्ता हुई। कई बिंदुओं पर सहमति बनी है। सरकार सकारात्मकता से उन पर विचार करने को तैयार है। बातचीत सौहाद्र्रपूर्ण माहौल में हुई। उन्होंने कहा कि किसानों की मंशानुसार मंडियों के बाहर ट्रेडर्स के रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था की जाएगी। आंदोलन खत्म करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि किसानों से इस पर अभी कोई बात नहीं हुई।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बंगाल में 623 नए covid केस, रिकवरी रेट जानकर हैरान हो जायेंगे आप 

  कोलकाता: पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (covid) के 623 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या शुक्रवार...

बिहार :नाबालिग छात्र ने किया suicide, सामने आ रही है ये वजह 

  गया. बिहार में गया जिले के रामपुर थाना क्षेत्र में एक नाबालिग छात्र ने प्रेम प्रसंग में आत्महत्या(suicide) कर ली। पुलिस सूत्रों ने शुक्रवार...

Mathura : लेफ्टिनेंट जनरल करियप्पा ने दी शहीदों को श्रद्धाजंलि

  मथुरा: 15 जनवरी सेना दिवस के अवसर पर शुक्रवार को लेफ्टीनेन्ट जनरल सी. पी. करियप्पा ने राष्ट्रीय सुरक्षा और सम्मान के लिए सर्वोच्च बलिदान...

राम मंदिर निर्माण के लिए दान देते हुए कल्याण सिंह ने जताई ये इच्छा, आप भी जानें  

    लखनऊ: राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (kalyan singh) ने कहा कि उनकी अंतिम इच्छा...

सुशील मोदी ने ट्वीट कर क्यों कहा-बिचौलियों की लड़ाई लड़ रहा है विपक्ष,पढ़िए यहाँ  

  पटना: राज्यसभा सांसद एवं बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (sushil kumar modi) ने कृषि कानून के विरोध में आंदोलनरत किसानों से...