Friday, December 4, 2020

नही रहे जिम्बाब्वे के पूर्व राष्ट्रपति, शोक भी हुआ और आलोचना भी

Must read

पीलीभीत: कुत्तों ने मिलकर बाघ को खेतों से खदेड़ा, Video viral

पीलीभीत कहते है कि कुत्ते भी अपने इलाके/मोहल्ले में शेर होते है यह कहावत पीलीभीत की घटना में सही साबित हुई। यहाॅं रिहाइषी इलाके...

MLC Election update : 11 सीटों में से 6 सीटों पर आया परिणाम, राज्य चुनाव आयोग ने जारी किया रिजल्ट

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की 11 सीट पर मतगणना अपडेट, 6 सीटों पर आया परिणाम, राज्य चुनाव आयोग ने जारी किया रिजल्ट.    

MLC चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 ग्राउंड जीरो से

उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं 11 सीटों पर एमएलसी चुनाव के नतीजे आखरी दौर में चल रहे हैं 11 सीटों पर आखिरी राउंड...

धर्मेंद्र यादव दिल्ली से लौटे यूपी बने “DIG कानून व्यवस्था”

उत्तर प्रदेश के तेजतर्रार अफसरों में एक धर्मेंद्र यादव प्रतिनियुक्ति से वापस उत्तर प्रदेश लौट आए हैं, धर्मेंद्र यादव को यूपी लौटते ही महत्वपूर्ण...

शुक्रवार सुबह ज़िम्बावे(Zimbabwe) के पूर्व राष्ट्रपति रोबर्ट मुगाबे का 95 साल की उम्र में निधन हो गया। पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे रोबर्ट मुगाबे(Robert Mugabe) ने सिंगापुर(Singapore) के एक अस्पताल में अपनी आखिरी साँसे ली। ज़िम्बावे के तत्कालीन राष्ट्रपति एमर्सन मनांगाग्वा(Emmerson Mnangagwa) ने उनकी मृत्यु की जानकारी दी।

ज़िम्बावे के राष्ट्रपति ने मुगाबे के निधन पर शोक प्रकट करते हुए लिखा ‘बेहद दुख के साथ मैं ये सूचित करता हूं कि जिम्बाब्वे के जनक और पूर्व राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे नहीं रहे।’ उन्होंने लिखा “मुगाबे स्वतंत्रता के प्रतिक थे, वो एक ऐसे अफ्रीकी नेता थे जिन्होंने अपने लोगों की स्वतंत्रता और सशक्तिकरण में अपना जीवन बिता दिया। इस देश और महाद्वीप के इतिहास में उनका योगदान हमेशा याद रखा जाएगा। उनकी आत्मा को शांति मिले।” उनके इस बयान के बाद देश में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। उनके प्रशंसक ट्वीट कर उनके निधन पर दुःख प्रकट कर रहे हैं।

शासन से हटाने के लिए देशभर में आंदोलन

हालांकि दक्षिण अफ्रीका गणराज्य के उप-सार्वजनिक रक्षक केविन मालूँगा(Kevin Malunga) और कई अन्य लोगों ने उनके निधन पर नकारात्मक बयान भी दिए। गौरतलब है कि मुगाबे देश की आजादी की लड़ाई में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने वालो में से एक थे। 1980 में आज़ादी मिलने के बाद उन्होंने 37 वर्षों तक देश में शासन किया। उनके तानाशाही फैसलों ने देश की अर्थव्यवस्था और सेना का काफी नुकसान किया था। उन्हें शासन से हटाने के लिए देशभर में आंदोलन भी किया गया था। 2000 में जनमत संग्रह और 2008 के राष्ट्रपति चुनाव में उन्हें बड़ी हार का सामना करना पड़ा था। हालांकि इतने सालों तक राष्ट्रपति पद सँभालने के बाद 2017 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...

अक्षय कुमार ने CM योगी से अयोध्या में अपनी फिल्म ‘राम सेतु’ की शूटिंग के लिए मांगी अनुमति

लखनऊ : बॉलीवुड फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अयोध्या में अपनी अगली फिल्म 'राम सेतु' की शूटिंग के लिए अनुमति...