Sunday, January 24, 2021

चीनी वैज्ञानिकों का Corona Virus को लेकर दावा- भारत ने दुनियाभर में फैलाया वायरस

Must read

अफगानिस्तान में पांच वरिष्ठ सदस्यों सहित 16 आतंकवादी ढ़ेर

काबुल:  अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत में सुरक्षाबलों के अभियान में तालिबान इस्लामी समूह के 16 आतंकवादी मारे गये हैं।क्षेत्रीय अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया...

UPCM योगी आदित्यनाथ के तस्वीर के साथ छेड़छाड़ करने वाले आरोपी की जमानत खारिज

इंदौर,  मध्यप्रदेश में उच्च न्यायालय की इंदौर खंडपीठ ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ कर उसे सोशल मीडिया पर...

संजीव भट्ट की याचिका की सुनवाई इतने सप्ताह के लिए टली

नई दिल्ली, उच्चतम न्यायालय ने हिरासत में हुई मौत मामले में आजीवन कारावास की सजा निलंबित करने को लेकर भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के...

राज्यों से दिल्ली पहुंचे किसान, पुलिस ने राजधानी के सभी संपर्क मार्ग किये सील

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में होने वाली ट्रैक्टर परेड में शामिल होने के लिए पंजाब, हरियाणा, यूपी आदि राज्यों से करीब पांच हजार ट्रैक्टर...

नई दिल्ली : दुनियाभर में कोरोना वायरस फैलाने वाला चीन अब भारत के सिर पर कोरोना का दोष मारन। ये बात कुछ अजीब लग सकती है लेकिन खबर मिल रही है कि चीन के कुछ वैज्ञानिकों ने भारत से कोरोना वायरस के फैलने का दावा किया है।

इस बारे में द सन की एक रिपोर्ट सामने आई है। इस रिपोर्ट में शंघाई इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल साइंसेंज के वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च पेपर का जिक्र करते हुए कहा है कि दिसंबर 2019 में वुहान में कोरोना के मामले सामने आने से पहले कोरोना वायरस भारतीय उपमहाद्वीप में मौजूद था।

इस बात को प्रमाण के लिए कई दूसरे वैज्ञानिकों की सहमति की जरूरत है इसलिए यह यही सिर्फ अंदाजा है। दरअसल, इस रिपोर्ट के जरिए चीन अपने शहर से कोरोना फैलने के आरोपों को दूसरे देश के ऊपर डालना चाहता है। इससे पहले चीन ने अमेरिका के ऊपर भी इसी तरह के आरोप लगाए थे।

इस रिपोर्ट में शंघाई इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल साइंसेंज के वैज्ञानिकों ने कोरोना का जिम्मेदार भारत या फिर बांग्लादेश बना दिया है। इस रिपोर्ट से जुड़े रिसर्च पेपर को द लान्सेट मेडिकल जर्नल के प्री-प्रिंट प्लेटफॉर्म SSRN.Com पर प्रकाशित किया गया है।

यह पेपर 17 देशों के कोरोना वायरस स्ट्रेन पर रिसर्च करके प्रकाशित किया है। इस रिसर्च का नेतृत्व डॉ. शेन लिबिंग ने किया है। इस रिसर्च में चीनी वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि भारत की युवा आबादी, बेहद खराब मौसम और सूखे की वजह से ऐसी स्थिति तैयार हुई होगी और इसी वजह से यह इंसानों में पहुंचा।

इस रिपोर्ट में चीनी वैज्ञानिकों ने यह भी दावा किया है कि हमें संकेत मिले हैं कि वुहान में वायरस का मामला सामने आने से तीन से चार महीने पहले कोरोना भारतीय उपमहाद्वीप में फैला था। वहीँ, इस रिपोर्ट को लेकर भारत सरकार के साथ काम कर रहे वैज्ञानिक मुकेश ठाकुर ने सवाल उठाते हुए इस रिपोर्ट को गलत बताया है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Delhi : राशन लेने के दौरान फिंगर प्रिंट ही नहीं, बुजुर्गों का नहीं मैच हो रहा रैटिना

नई दिल्ली :  ई-पोस द्वारा राशन वितरण करने के दौरान नेटवर्किंग संबंधी परेशानियों की बातें लगातार सामने आ रही हैं। वही पायलेट प्रोजेक्ट में...

हिंदू पुजारियों पर Corona पीड़ितों की अंत्येष्टि के लिए ज्यादा शुल्क वसूलने का आरोप

दक्षिण अफ्रीका में कुछ हिंदू पुजारियों (Hindu priests) पर कोविड-19 के कारण मरने वाले लोगों की अंत्येष्टि के लिए अधिक शुल्क वसूले जाने के...

कारगिल में पर्यटन की हैैं अपार संभावनाएं : पटेल

नई दिल्ल : हाल ही में जम्मू-कश्मीर से अलग होकर लद्दाख केन्द्रशाषित प्रदेश बना है। इससे पहले कभी भी लद्दाख को खासकर कारगिल में...

Farmers Protest : महाराष्ट्र में उमड़ा किसानों का सैलाब, ठाकरे-पवार देंगे समर्थन

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को मुंबई के आजाद मैदान में होने वाली रैली में शामिल होने...

PM मोदी NCC कैडेट्स से मिले, Corona काल में अभूतपूर्व सहयोग को सराहा

नई दिल्ली : पीएम नरेंद्र मोदी ने आज गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले NCC कैडेट्स से मिले। उन्होंने इस अवसर पर संबोधित...