Sunday, November 29, 2020

चंद्रमा पर फतह में बस 11 दिन और, फिर होंगे तारे ज़मीन पर

Must read

पंजाब-हरियाणा से लेकर UP तक किसानों का दंगल, CM अमरिंदर सिंह ने की केंद्र सरकार से अपील

पंजाब से दिल्ली की ओर कूच के लिए निकले किसान अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। सिंधु बॉर्डर पर किसानों और पुलिस के बीच...

Bollywood : शिल्पा शेट्टी ने अपने किचन गार्डन का वीडियो किया शेयर, लिखा- ‘फूड फॉर थॉट…’

अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहती हैं और अक्सर अपने फनी एवं फिटनेस वीडियो फैंस के साथ साझा करती रहती हैं।...

Corona virus : दिल्ली में लगा Lockdown! दो बाज़ारो को किया 30 नवंबर तक बंद…

नई दिल्ली दिल्ली में कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए दो बाजारों को 30 नवंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है।...

छपरा DM की IRS अधिकारी बनी दुल्हन, बिना बैंड बाजा की हुई हाईप्रोफाइल शादी

छपरा के डीएम सुब्रत कुमार सेन की पूर्णिया में सादगी के साथ शादी हुई. उन्होंने आईआरएस अधिकारी सुचिस्मिता के साथ शादी की. सुचिस्मिता आयकर...

चंद्रयान 2 ने बुधवार सुबह चाँद की तीसरी कक्षा में सफलता पूर्वक प्रवेश कर लिया है। बुधवार सुबह 9 बजकर 8 मिनट पर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने चंद्रयान 2 को चाँद की तीसरी कक्षा में प्रवेश करने की प्रक्रिया को अंजाम दिया। चंद्रयान-2 अगले 2 दिन तक चाँद के चारों तरफ 179 किमी की एपोजी और 1412 किमी की पेरीजी में चक्कर लगाएगा।

इसरो ने इस सफलता की जानकारी ट्वीट कर दी। इसके बाद 30 अगस्त को चंद्रयान-2 को चांद की चौथी और 1 सितंबर को पांचवीं कक्षा में प्रवेश कराया जाएगा। 3 सितंबर को विक्रम लैंडर की सेहत जांचने के लिए इसरो वैज्ञानिक 3 सेकंड के लिए उसका इंजन ऑन करेंगे और उसकी कक्षा में मामूली बदलाव करेंगे। इसरो वैज्ञानिक विक्रम लैंडर को 4 सितंबर को चांद के सबसे नजदीकी कक्षा में पहुंचाएंगे। इस कक्षा की एपोजी 35 किमी और पेरीजी 97 किमी होगी। अगले तीन दिनों तक विक्रम लैंडर इसी कक्षा में चांद का चक्कर लगाता रहेगा। इस दौरान इसरो वैज्ञानिक विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर के सेहत की जांच करते रहेंगे।

7 सितम्बर की सुबह चंद्रयान 2 सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। विक्रम लैंडर 35 किमी की ऊंचाई से चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरना शुरू करेगा। माना जा रहा है कि इसरो वैज्ञानिकों के लिए यह बेहद चुनौतीपूर्ण कार्य होगा। इससे पहले 14 अगस्त को चंद्रयान-2 को ट्रांस लूनर ऑर्बिट में डाला गया था। 20 अगस्त को इसरो वैज्ञानिकों ने चंद्रयान-2 को चांद की पहली कक्षा में सफलतापूर्वक पहुंचाया था। उस समय चंद्रयान की गति को 10.98 किमी प्रति सेकंड से घटाकर करीब 1.98 किमी प्रति सेकंड किया गया था। चाँद की कक्षा में प्रवेश के साथ चंद्रयान-2 की गति में 90 फीसदी की कमी इसलिए की गई थी ताकि वह चांद की गुरुत्वाकर्षण शक्ति के प्रभाव में आकर चांद से टकरा न जाए।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

राज्यसभा उपचुनाव : सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे नामांकन, RJD के उम्मीदवार पर सस्पेंस

बिहार की एक राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मतदान होगा या नहीं इस पर से सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है।...

CM नीतीश पर अमर्यादित टिप्पणी से नाराज JDU कार्यकर्ताओं ने तेजस्वी का पूतला फूंका

मुज़फ़्फ़रपुर ; विधानसभा में  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर अभद्र टिप्पणी करने को लेकर पूरे बिहार में जगह जगह...

मुज़फ़्फ़रपुर में हाईवे पर लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 किलो गांजा और हथियार के साथ 5 अपराधी गिरफ्तार

  मुज़फ़्फ़रपुर : जिले के गायघाट पुलिस ने हाइवे लूटपाट गिरोह के पांच सदस्यों को हथियार व लूट के समान के साथ पकड़ा और इस...

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया सूर्याधार जलाशय का लोकार्पण

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को स्वर्गीय गजेन्द्र दत्त नैथानी जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। इस झील के निर्माण पर 50.25...

Uttarakhand: 389 नए संक्रमित संक्रमित मिले, आठ की मौत, मरीजों की संख्या 74 हजार पार

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे के दौरान 389 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 278 मरीज स्वस्थ होने...