Tuesday, March 2, 2021

Britain के PM बोरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री मोदी को दिया G-7 का न्यौता

Must read

आम आदमी पार्टी , कार्यकर्ता सम्मलेन की बनाई रूपरेखा

आम आदमी पार्टी (आप) ने राजस्थान के बीकानेर संभाग के तीन जिलों श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ एवं बीकानेर में विधानसभा क्षत्रों के प्रतिनिधियों के साथ...

एक्सीटेन्ट की सूचना पर पीआरवी 112 द्वारा तत्काल कार्यवाही

एक्सीटेन्ट की सूचना पर पीआरवी 112 द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुए घायल को पहुंचाया अस्पताल पीआरबी जीरो 942 अपने निर्धारित रूट चार्ट पर जा रही...

भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक दिया इस्तीफा, जानें क्यों

मुजफ्फरनगर ब्रेकिंग किसान आंदोलन से जुड़ी आज की सबसे बड़ी खबर कृषक समृद्धि आयोग के सदस्य वह भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने ये...

भदोही में सनकी पति ने पत्नी को उतारा मौत के घाट, वजह जानकर होंगे हैरान

भदोही  उत्तर प्रदेश में भदोही जिले के दुर्गागंज थाना अन्तर्गत रामनगर गांव में आज एक सनकी पति ने अपनी पत्नी की बेरहमी से पिटाई...

इस वर्ष ब्रिटेन के कार्नवाल में G-7 शिखर सम्मेलन होने वाला है। इस दौरान जलवायु परिवर्तन को लेकर विशेष रूप से बात होगी।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (British Prime Minister Boris Johnson) ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को जी-7 शिखर सम्मेलन (G7 Summit) में भाग लेने के लिए न्योता भेजा है।

ये शिखर सम्मेलन इस बार कॉर्नवॉल में 11 से 13 जून तक आयोजित की जाएगी. इस समिट में दुनिया के सात प्रमुख देशों के नेता कोरोना वायरस संकट और जलवायु परिवर्तन से उबरने की चुनौतियों के लेकर चर्चा करेंगे. इस बार जी-7 के शिखर सम्मेलन में भारत के अलावा ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया को भी मेहमान के तौर पर बुलाया गया है।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, ‘दुनिया की फार्मेसी के रूप में भारत पहले से ही दुनिया के 50 फीसदी से ज्यादा वैक्सीन की आपूर्ति करता है. यूनाइटेड किंगडम और भारत ने कोरोना जैसी महामारी के दौरान एक साथ मिलकर काम किया है. हमारे प्रधानमंत्री लगातार बातचीत करते रहते हैं और पीएम जॉनसन ने कहा है कि जी-7 सम्मेलन से पहले वो भारत का दौरा करेंगे. इस साल के गणतंत्र दिवस समारोह में जॉनसन को चीफ गेस्ट के तौर पर आमंत्रित किया गया था, लेकिन कोविड-19 के बढ़ते मामलों उनका दौरा रद्द हो गया।

ये ब्रिटेन के लिए अंतरराष्ट्रीय नेतृत्व का एक बेहद अहम साल है. इस साल फरवरी के दौरान जी 7 शिखर सम्मेलन के अलावा, ब्रिटेन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करेगा और इस साल के अंत में वो ग्लासगो में CoP-26 की मेजबानी करेगा और विकासशील देशों में बच्चों को स्कूल में लाने के उद्देश्य से एक ग्लोबल शिक्षा सम्मेलन होगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

भाजपा सांसद नंदकुमार चौहान का निधन

दिल्ली,  मध्य प्रदेश के खंडवा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद नंदकुमार सिंह चौहान का मंगलवार सुबह यहां के समीप गुरुग्राम स्थित मेदांता...

चेक गणराज्य ने उद्यमों तथा कंपनियों में कोरोना की जांच को किया अनिवार्य

प्राग  चेक गणराज्य ने उद्यमों तथा कंपनियों में 12 मार्च से सप्ताह में एक बार कोरोना वायरस (कोविड-19) की जांच को अनिवार्य कर दिया...

बेल्जियम की एक अप्रैल से पर्यटकों की यात्रा से ऐसे हट सकता है प्रतिबंध

ब्रुसेल्स,  बेल्जियम कोरोना वायरस के नये स्ट्रेन के प्रसार के खतरों के कारण इस वर्ष की शुरुआत में पर्यटक और देश के बाहर की...

ब्रिटेन नहीं करेगा लॉकडाउन के नियमों में बदलाव

लंदन ,  ब्राजील में पाए गये कोरोना वायरस (कोविड-19) के नए स्ट्रेन के मामले सामने आने के बावजूद ब्रिटिश सरकार की इसकी रोकथाम के...

सेवा भी रोजगार भी’ थीम पर आधारित तीसरे जनऔषधि दिवस की शुरुआत

दिल्ली ,  देशवासियों को महंगी दवाओं से राहत पहुंचाने के उद्देश्य से सस्ती जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराने के लिए शुरू की गयी प्रधानमंत्री भारतीय...