पाकिस्तान को काटो तो खून नही, बिश्केक में इतनी देर तक क्या बात करते रहे मोदी और जिनपिंग!

0
108

किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन के दौरान बातचीत हुई | मुलाक़ात के लिए 20 मिनट का वक़्त तय था लेकिन ये मीटिंग कहीं ज़्यादा वक़्त तक चली | नरेंद्र मोदी ने चीन के राष्ट्रपति के साथ मुलाक़ात को बहुत ही लाभदायक बताया | मोदी ने ट्विटर पर लिखा, “राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बेहद लाभदायक मुलाक़ात रही | हमारी बातचीत में भारत-चीन रिश्तों के सभी आयामों पर चर्चा हुई | हमारे देशों के आर्थिक और सांस्कृतिक रिश्तों को बेहतर करने के लिए हमें साथ काम करते रहना होगा |” मोदी ने जिनपिंग को अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए भारत आमंत्रित किया जिसे उन्होंने मंजूर कर लिया |

ये सम्मेलन किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में हो रहा है | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत-पाकिस्तान रिश्तों को लेकर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से कहा है कि पाकिस्तान को ‘आंतकवाद से मुक्त महौल बनाने की जरूरत है | फ़िलहाल हम ऐसा होता नहीं देख रहे हैं |’

मोदी ने बिश्केक पहुंचने के बाद सबसे पहले शी जिनपिंग से ही मुलाक़ात की | आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की जीत और जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र की ओर से ‘ग्लोबल टेररिस्ट’ घोषित किए जाने के बाद दोनों नेताओं की ये पहली मुलाक़ात थी |

भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि दोनों नेताओं के बीच “पाकिस्तान को लेकर संक्षेप में बातचीत हुई | वक्त कम थ | मुलाक़ात के लिए 20 मिनट का वक़्त तय था लेकिन ये मीटिंग कहीं ज़्यादा वक़्त तक चली |” गोखले के मुताबिक, “प्रधानमंत्री (मोदी) ने कहा कि पाकिस्तान को लेकर हमारी स्थिति में एकरूपता है हम सभी मुद्दों पर दोतरफा प्रक्रिया के तहत बात करें | हम बातचीत के जरिए शांतिपूर्ण समाधान चाहते हैं | हम इस प्रक्रिया के लिए प्रतिबद्ध हैं |”
मोदी और जिनपिंग की मुलाक़ात के बाद गोखले ने कहा, “प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने इस दिशा में प्रयास किया है, लेकिन इन कोशिशों को पटरी से उतार दिया गया | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग को बताया कि पाकिस्तान को आतंकवाद से मुक्त माहौल बनाने की जरूरत है | फ़िलहाल हम ऐसा होता नहीं देख रहे हैं* हम पाकिस्तान की ओर से ठोस कदम उठाए जाने की उम्मीद करते हैं |” इसके पहले अप्रैल 2018 में दोनों नेताओं के बीच चीन के वुहान में अनौपचारिक शिखर वार्ता हुई थी | ये मुलाकात दोनों देशों के बीच साल 2017 में डोकलाम को लेकर बने तनाव के बाद हुई थी | वुहान में हुई शिखर वार्ता के बाद से दोनों देशों ने रिश्ते बेहतर करने के लिए कदम उठाए हैं |

शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान भी हिस्सा ले रहे हैं लेकिन उनकी और प्रधानमंत्री मोदी की कोई द्विपक्षीय मुलाकात नहीं होनी है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here