Saturday, January 23, 2021

पूर्व मुख्यमंत्रियों को यूँ रेवड़ियां बांट रही थी उत्तराखंड सरकार, मामला हाइकोर्ट में गया

Must read

मोदी ने कर्नाटक में मजदूरों की मौत पर शोक व्यक्त किया, प्रभावितों के लिए कही ये बात

शिवमोगा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कर्नाटक के शिवमोगा शहर के बाहरी इलाके में पत्थर की खदान में हुए विस्फोट में आठ लोगों की मौत...

किसानों का समर्थन कर रहे पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू को NIA ने भेजा समन

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने सिख फॉर जस्टिस (SFJ) मामले में एक दर्जन से अधिक लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया है। इनमें पंजाबी ऐक्‍टर दीप सिंह...

मारीच में पुलिस ऑफिसर का किरदार निभायेंगे तुषार कपूर

मुंबई,  बॉलीवुड अभिनेता तुषार कपूर अपनी आने वाली फिल्म मारीच में पुलिस ऑफिसर का किरदार निभाते नजर आयेंगे। तुषार कपूर ने अपनी अगली फ़िल्म मारीच...

भारत फ्रांस वायुसेना का सैन्य अभ्यास डेजर्ट नाइट शुरु

जोधपुर,  राजस्थान के जोधपुर में भारतीय और फ्रांस वायुसेना का अंतरराष्ट्रीय सैन्य अभ्यास डेजर्ट नाइट-21 शुरु हो गया। सैन्य प्रवक्ता के अनुसार सुबह डेजर्ट नाइट...

उत्तराखंड में पूर्व मुख्यमंत्रियों(Ex-CM) को सरकारी दर पर आवास और सुविधाओं का किराया भरपाई पर उत्तराखंड (Uttarakhand) सरकार के अध्यादेश (Ordinance) को हाईकोर्ट में चुनौती (High Court) मिली है। इस अध्यादेश को असंवैधानिक (Unconstitutional) घोषित करने को लेकर अवधेश कौशल (Awdhesh Kaushal) ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है।

अवधेश कौशल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है जिसमे लिखा है कि राज्य सरकार जो अध्यादेश लाई है वह संविधान के आर्टिकल 14 और 21 के विपरीत है। इससे पहले भी उन्होंने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस याचिका में राज्य सरकार के उस अध्यादेश को चुनौती दी गई है जिसमे राज्य सरकार ने नैनीताल हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच (Division Bench) के पूर्व मुख्यमंत्रियों से सरकारी सुविधाओं का सरकारी भाव (Market Rate) से पैसा वसूलने के आदेश को इस अध्यादेश से निष्प्रभावी कर दिया था।

बीजेपी सरकार दे रही थी बीजेपी पूर्व मुख्यमंत्रियों को मुफ्त सुविधा

दरअसल हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने 3 मई, 2019 को जारी अपने आदेश में कहा था कि पूर्व मुख्यमंत्री बाजार भाव से बंगले, गाड़ी आदि सभी सुविधाओं का किराया वहन करेंगे। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने कहा था कि 6 महीने के अंदर सभी पैसा जमा करें और अगर ऐसा नहीं करते हैं तो सरकार इनके खिलाफ वसूली की कार्रवाई शुरु करें। हाईकोर्ट के इस आदेश को दो पूर्व मुख्यमंत्रियों ने चुनौती भी दी थी जिसे खारिज कर दिया गया। इसके बाद राज्य सरकार के लिए इन दो मुख्यमंत्रियों के अलावा रमेश पोखरियाल निशंक और मेजर जनरल (रिटायर्ड) बीसी खंडूड़ी से भी पैसा वसूलना पड़ता। इसलिए हाई कोर्ट के आदेश को निष्प्रभाव करते हुए राज्य सरकार ने अध्यादेश निकाला था। अध्यादेश में कैबिनेट ने फ़ैसला किया था कि पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों, गाड़ी के किराए का भुगतान सरकार करेगी और उन्हें सभी सुविधाएं पहले की तरह मुफ्त दी जाती रहेंगी। बता दें इस अध्यादेश के सहारे सुविधाओं का लाभ उठाने वाले ज़्यादातर नेता बीजेपी के हैं।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

हलवा सेरेमनी से बजट कार्यक्रम की शुरुआत,वित्त मंत्री समेत वरिष्ठ अधिकारी भी रहे मौजूद

नई दिल्ली : आगामी 1 फरवरी को बजट पेश किये जाएंगे। जिसको लेकर वित्त मंत्रालय ने तैयारी शुरु कर दी है। इसी कड़ी में...

पंचायत चुनाव के लिए आजाद समाज पार्टी ने कही कमर, की ये त्यारी

आजाद समाज पार्टी ने आगामी जिला पंचायत चुनावों को लेकर कसी कमर।पहली बार चुनाव में अपने प्रत्याशियों की घोषणा करते हुए आजाद समाज पार्टी...

हो जाइए सावधान! कहीं आप भी ज्यादा Toilet तो नहीं जाते, भरना पड़ेगा भारी जुर्माना

नई दिल्ली : कभी ऐसा हो जाए कि आप जब अपने ऑफिस पहुंचे और नया फरमान दिखें जिसमें कहा जाए कि यदि टॉयलेट एक...

तिरंगे फहराने के जानें खास नियम, पालन नहीं करने पर जाना पड़ सकता जेल

नई दिल्ली : हर साल की भांति इस बार भी 26 जनवरी को बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। दरअसल आज ही...

Nursery Admission Guidelines जनवरी के अंतिम हफ्ते में हो सकती हैं जारी

  नई दिल्ली : राजधानी में सीबीएसई बोर्ड (CBSE Board) परीक्षाओं के मद्देनजर 10वीं-12वीं के लिए स्कूलों 18 जनवरी से खोल दिया गया है। इन...