Friday, May 14, 2021

AISF छात्र संगठन का बिहार सरकार के खिलाफ़ विरोध प्रदर्शन,कहा-जब चुनाव हो सकता है तो पढाई क्यों नही

Must read

उन 23 मरीज़ों का चला पता, जो दिल्ली के हिंदू राव अस्पताल से हुए थे ‘लापता’

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दो दिन पहले ही उस मामले में जांच के आदेश दिए थे, जिसमें उत्तरी दिल्ली में नगर...

कोरोना की गति को काफी हद तक नियंत्रित किया गया है – चौहान

भोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य में 5 स्तरीय रणनीति ''आइडेंटीफाई, टैस्ट, आइसोलेट, ट्रीट एवं वैक्सिनेट'' अपनाकर कोरोना...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

कोरोना हराने के लिए टीका हर घर पहुंचना जरूरी : राहुल-प्रियंका

नयी दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि देश के हर घर तक कोरोना...

बिहार के छात्र संगठन AISF ने पटना विश्वविद्यालय के गेट पर जोरदार विरोध प्रदर्शन किया. कोरोना को लेकर बिहार सरकार ने जो गाइडलाइन जारी किए हैं, उसके तहत सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया है. इसी बीच सभी मॉल, सिनेमाघर, पार्क खुले हुए हैं, मगर स्कूल कॉलेज ही बंद है. इसी का विरोध जताते हुए AISF ने विरोध प्रदर्शन कर अपनी बातों को रखा.

AISF संगठन के सदस्य सुशील कुमार ने बताया कि बिहार सरकार ने स्कूल कॉलेज को कोरोना के मद्देनजर बंद करवा किया, मगर परीक्षाएं जारी है. जब छात्र पढ़ेंगे नहीं तो परीक्षा कैसे देंगे. अगर स्कूल कॉलेजों में परीक्षा हो सकती है तो पढ़ाई भी हो सकती है. वहीं दूसरी तरफ देश के राज्यों में विधानसभा चुनाव चल रहा है. जहां चुनाव है, वहां कोरोना नहीं है. केवल बिहार के स्कूल, कॉलेजों में कोरोना है. विधानसभा चुनाव के दौरान कई रैलियां हुई, कई भाषण हुए, लेकिन वहां कोरोना के केस नहीं है. हमारी सरकार से मांग है कि कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराए, मगर स्कूल कॉलेज भी उसी गाइडलाइन के तहत चलें ताकि विद्यार्थियों का भविष्य खराब ना हो.

इसके अलावा सुशील कुमार ने अशोक राजपथ में पुल बनाने के नाम पर खुदाबख्श लाइब्रेरी को तोड़ने का भी विरोध किया. उन्होनें कहा कि पुल बनाने से भले ही जाम की समस्या खत्म हो जाएगी, लोगों को सहूलियत हो जाएगी, लेकिन उसके लिए खुदाबख्श लाइब्रेरी को कुछ हिस्से को तोड़ना कहीं से भी सही नहीं है. खुदाबख्श लाइब्रेरी बिहार की ऐतिहासिक धरोहरों में शुमार है. केवल पुल बनाने के लिए उसे तोड़ना कहीं से भी सही उचित नहीं है. उन्होनें सरकार से रोजगार के मुद्दे पर भी सवाल किया.

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...