Saturday, November 28, 2020

6 महीने बाद सितंबर में 0.2 फीसदी बढ़ी औद्योगिक उत्‍पादन दर

Must read

देश में आज ट्रेड यूनियन की हड़ताल, बिहार में RJD भी सड़क पर उतरी….

ट्रेड यूनियंस की तरफ से बुलाई गई हड़ताल का असर आज देश भर में देखने को मिल रहा है. बिहार में ट्रेड यूनियन की...

दुनिया ने खोया एक बेहतरीन फुटबालर, सचिन, गांगुली सहित पूरे खेल जगत ने जताया शोक

नई दिल्ली : अर्जेंटीना के दिग्गज फुटबॉलर डिएगो माराडोना के निधन पर पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली और महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर सहित भारतीय...

आगरा : आज से खुलेंगे महाविद्यालय, अंतिम वर्ष की कक्षाएं होंगी शुरू

आगरा : ताज नगरी में शासन के निर्देशों के बाद सोमवार से महाविद्यालयों को खोला जा रहा है। प्रथम चरण में स्नातक और परास्नातक...

जानिए सदन में तेजस्वी और नीतीश के बीच तू तू मैं मैं में किसने क्या कहा

बिहार विधानसभा सत्र का अंतिम दिन गहमागहमी के बीच संपन्न हो गया। इस दौरान सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच निजी हमलों से लेकर सरकार...

नई दिल्‍ली। अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के संकेत दिखने लगे हैं। देश का औद्योगिक उत्‍पादन 6 महीने के बाद सकारात्मक दायरे में पहुंच गया है। खनन और बिजली उत्पादन क्षेत्रों के बेहतर प्रदर्शन की बदौलत सितम्‍बर महीने में औद्योगिक उत्पादन में 0.2 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) के गुरुवार को जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक औद्योगिक उत्पादन में सितम्‍बर में 0.2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। हालांकि, आईआईपी में 77.63 फीसदी हिस्सेदारी रखने वाले विनिर्माण क्षेत्र में सितम्‍बर महीन में 0.6 फीसदी की मामूली गिरावट रही है। वहीं, खनन और बिजली क्षेत्र के उत्पादन में क्रमश: 1.4 फीसदी और 4.9 फीसदी की वृद्धि हुई है।

आईआईपी के पिछले साल सितम्‍बर के आंकड़ों को यदि देखा जाए तो इसमें 4.6 फीसदी की गिरावट आई थी। ज्ञात हो कि औद्योगिक उत्पादन में इस साल फरवरी महीने में 5.2 फीसदी की वृद्धि हुई थी। उसके बाद कोविड-19 की महामारी के बाद लागू देशव्‍यापी लॉकडाउन के कारण मार्च में 18.7 फीसदी, अप्रैल में 57.3 फीसदी, मई में 33.4 फीसदी, जून में 16.6 फीसदी और जुलाई में 10.8 फीसदी की गिरावट आईआईपी में आई थी।

सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने जारी एक बयान में बताया कि अगस्त के आईआईपी आंकड़ों को संशोधित किया गया है। इसके तहत इसमें 7.4 फीसदी की गिरावट रही, जबकि पिछले महीने जारी अस्थायी आंकड़ों में इसमें 8 फीसदी की गिरावट आने का अनुमान व्यक्त किया गया था। आंकड़ों के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-सितम्‍बर के दौरान आईआईपी में 21.1 फीसदी की गिरावट आई है, जबकि पिछले वित्त वर्ष 2019-20 की इसी अवधि में 1.3 फीसदी की वृद्धि हुई थी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बड़ी खबर : यहां जानिए दिल्ली की कौन सी जगह पर किसानों को बिना ट्रैक्टर के प्रवेश करने की मिली इजाजत

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलित किसानों का धरना-प्रदर्शन अभी भी जारी है। किसानों ने रात सिंधु बॉर्डर पर गुजारी। किसान...

सपा के वरिष्ठ नेता ने कहा – लोकतन्त्र की आत्मा को कुचल रही है सरकार, जाने क्यों

बलिया : यूपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी ने कृषि बिल के खिलाफ दिल्ली जा रहे किसानों के साथ सरकार के व्यवहार को...

हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों पर हत्या के प्रयास, दंगा करने के आरोप में किया केस दर्ज

नई दिल्ली : हरियाणा पुलिस ने भारतीय किसान संघ (BKU) की प्रदेश इकाई के प्रमुख गुरनाम सिंह चारूणी और अन्य किसानों पर ‘दिल्ली चलो’...

मुज़फ़्फ़रपुर : मैट्रिक और इंटर की 2021 में होने वाली परीक्षाओं को लेकर जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक

मुज़फ़्फ़रपुर : बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट और मैट्रिक 2021 में होने वाली परीक्षाओं की तैयारियों को लेकर शनिवार को मोतीझील स्थित बीबी कॉलेज में जिला...

खराब हो गया है तेजस्वी यादव का मानसिक संतुलन : युवा JDU

बेगूसराय : विधानसभा में राजद नेता तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री पर किए गए बयानबाजी के विरुद्ध शनिवार को युवा जदयू के कार्यकर्ताओं ने बेगूसराय...