Saturday, November 28, 2020

समुद्र में 4 देशों ने चीन को दिखाया दम, एक साथ गरजे भारत-US के लड़ाकू विमान

Must read

Breaking news : कोरोना संकट पर PM मोदी की बैठक, केजरीवाल ने मांगे और 1000 ICU बेड…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में आज यानि मंगलवार को मुख्यमंत्रियों की बैठक हुई है। इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी...

हैल्थ प्रोटोकॉल की हो पालना समाज के सभी वर्ग निभाएं दायित्व – मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

जयपुर : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना संक्रमण खतरनाक स्थिति की ओर बढ़ रहा है। जरा सी लापरवाही खुद के साथ ही...

श्रीनगर में सेना के जवानों पर हुआ आतंकी हमला, 2 जवान हुए शहीद

जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) के श्रीनगर इलाके से बड़ी खबर आ रही है। खबर है कि आतंकियों ने एचएमटी (HMT) इलाके में सुरक्षाबलों पर हमला...

Birthday spl : प्रिंस नरूला ने अपने बर्थडे पर पत्नी युविका संग किया रोमांटिक डांस, सोशल मीडिया पर वीडियो हुआ वायरल

अभिनेता प्रिंस नरूला आज अपना 30वां जन्मदिन मना रहे हैं। बिग बॉस विजेता प्रिंस नरूला और उनकी पत्नी युविका चौधरी अपने दोस्तों के साथ...
नई दिल्ली : क्वाड समूह के चार देशों के बीच हिन्द महासागर क्षेत्र में मालाबार समुद्री अभ्यास के दूसरे चरण के आखिरी दिन शुक्रवार को भारतीय नौसेना के मिग-29केएस और अमेरिकी नेवी के एफ-18एस लड़ाकू विमान एक साथ आसमान में गरजे और लक्ष्य को निशाना बनाया। इस दौरान मिग-29केएस ने आईएनएस विक्रमादित्य एयरक्राफ्ट कैरियर से उड़ान भरी। भारतीय नौसेना का विमान वाहक पोत विक्रमादित्य और अमेरिकी विमान वाहक पोत निमित्ज प्रमुख आकर्षण का केंद्र रहे। मालाबार युद्धाभ्यास में चारों देशों की सेनाओं ने चीन को समुद्र में दम दिखाया।
मालाबार समुद्री अभ्यास के अंतिम दिन भारतीय नौसेना के मिग 29 और अमेरिकी नेवी के एफ-18 लड़ाकू विमान जमीनी सेना पर हमले का युद्धाभ्यास करते दिखे। लड़ाकू विमानों ने भारतीय विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य से उड़ान भरने और लैंडिंग करने का अभ्यास किया। इसमें भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया की नौसेनाओं ने पहले चरण में 3-6 नवम्बर तक बंगाल की खाड़ी में और दूसरे चरण में 17-20 नवम्बर तक अरब सागर में युद्धाभ्यास किया। इस नौसैन्य अभ्यास में समुद्री मुद्दों पर चार जीवंत लोकतंत्रों के बीच विचारों की समग्रता पर प्रकाश डाला गया। यह अभ्यास ने औपचारिक रूप से क्वाड समूह के चार देशों की नौसेनाओं को एक साथ लाने का काम किया है।
मालाबार-20 के पहले चरण में अमेरिकी नौसेना ने यूएसएस जॉन एस मैक्केन, ऑस्ट्रेलिया ने मैजेस्टी ऑफ ऑस्ट्रेलियन शिप एचएमएएस बल्लारत के साथ एमएच-60 हेलीकॉप्टर और जापानी नौसेना ने जेएमएसडीएफ ओनामी के साथ भागीदारी की। इस चरण में भारतीय नौसेना का नेतृत्व ईस्टर्न फ्लीट के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग रियर एडमिरल संजय वात्स्यायन ने किया और इसमें विध्वंसक रणविजय, स्वदेशी फ्रिगेट शिवालिक, ऑफशोर पेट्रोल वेसल सुकन्या, फ्लीट शिप शक्ति, पनडुब्बी सिंधुराज, पी-8 आई और डोर्नियर समुद्री टोही विमान शामिल हुए थे।
दूसरे चरण में चारों देशों की नौसेनाओं ने भारतीय नौसेना के विक्रमादित्य कैरियर बैटल ग्रुप और यूएस नेवी के निमित्ज़ कैरियर स्ट्राइक ग्रुप पर केंद्रित संयुक्त अभियानों में भाग लिया। भारत ने 44,500 टन के आईएनएस विक्रमादित्य को अपने मिग-29 के फाइटर जेट्स के साथ तैनात किया। इसके अलावा भारतीय नौसेना के लड़ाकू विमान, हेलीकॉप्टर एयर-विंग्स, स्वदेशी विध्वंसक कोलकाता और चेन्नई के सा‍थ-साथ स्टील्थ फ्रिगेट तलवार, फ्लीट सपोर्ट जहाज दीपक और इंटीग्रल हेलीकॉप्टर ने भाग लिया जिसकी अगुवाई पश्चिमी बेड़े के कमांडिंग फ्लैग ऑफिसर रियर एडमिरल कृष्ण स्वामीनाथन को सौंपी गई। स्वदेश निर्मित पनडुब्बी खंडेरी और भारतीय नौसेना के पी-8 आई समुद्री टोही विमान ने भी अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया।
इसी तरह अमेरिका ने 100,000 टन से अधिक परमाणु चालित यूएसएस निमित्ज वाहक को एफ-18 फाइटर्स और ई-2 सी हॉके के साथ चार दिवसीय सैन्य अभ्यास के लिए भेजा। स्ट्राइक कैरियर निमित्ज में पी-8ए समुद्री टोही विमान के अलावा क्रूजर प्रिंसटन और विध्वंसक स्टेरेट इस नौसैन्य अभ्यास में हिस्सा लेने आये। यूएस नेवी की स्ट्राइक कैरियर निमित्ज में पी-8ए समुद्री टोही विमान के अलावा क्रूजर प्रिंसटन और विध्वंसक स्टीरियो भी था। ई-2 सी हॉके द्वारा क्रॉस-डेक उड़ान संचालन और उन्नत वायु रक्षा अभ्यास सहित उच्च तीव्रता वाले नौसैनिक संचालन में लगे रहे। रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी का प्रतिनिधित्व इंटेग्रल हेलीकॉप्टर के साथ-साथ बैलरेट ने किया। जापान की नौसेना जेएमएसडीएफ ने भी इस अभ्यास में विध्वंसक जेएस मुरास्म के साथ भाग लिया। मालाबार के 24वें संस्करण में ऑस्ट्रेलिया की नौसेना 13 साल बाद शामिल होकर क्वाड समूह के नौसैन्य अभ्यास का गवाह बनी।
नौसैन्य अभ्यास के दोनों चरणों के दौरान ‘डुअल कैरियर’ संचालन के अलावा उन्नत सतह और पनडुब्बी रोधी युद्ध अभ्यास, सीमन्सशिप इवोल्यूशन और हथियार से फायरिंग भी की गई जिसमें चारों मैत्रीपूर्ण नौसेनाओं के बीच तालमेल, समन्वय और अंतर-संचालनशीलता का प्रदर्शन किया गया। युद्ध अभ्यास की मालाबार श्रृंखला भारत और अमेरिका के बीच एक वार्षिक द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास के रूप में 1992 में शुरू की गई थी। इस नौसेना अभ्यास में जापान पहली बार 2015 में शामिल हुआ था। यह वार्षिक नौसैन्य अभ्यास वर्ष 2018 में फिलीपीन सागर में गुआम तट पर आयोजित किया गया। साल 2019 में जापान तट पर हुआ और अब 24वां संस्करण का पहला चरण बंगाल की खाड़ी में और दूसरा चरण अरब सागर में हुआ है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बड़ी खबर : यहां जानिए दिल्ली की कौन सी जगह पर किसानों को बिना ट्रैक्टर के प्रवेश करने की मिली इजाजत

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलित किसानों का धरना-प्रदर्शन अभी भी जारी है। किसानों ने रात सिंधु बॉर्डर पर गुजारी। किसान...

सपा के वरिष्ठ नेता ने कहा – लोकतन्त्र की आत्मा को कुचल रही है सरकार, जाने क्यों

बलिया : यूपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी ने कृषि बिल के खिलाफ दिल्ली जा रहे किसानों के साथ सरकार के व्यवहार को...

हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों पर हत्या के प्रयास, दंगा करने के आरोप में किया केस दर्ज

नई दिल्ली : हरियाणा पुलिस ने भारतीय किसान संघ (BKU) की प्रदेश इकाई के प्रमुख गुरनाम सिंह चारूणी और अन्य किसानों पर ‘दिल्ली चलो’...

मुज़फ़्फ़रपुर : मैट्रिक और इंटर की 2021 में होने वाली परीक्षाओं को लेकर जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक

मुज़फ़्फ़रपुर : बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट और मैट्रिक 2021 में होने वाली परीक्षाओं की तैयारियों को लेकर शनिवार को मोतीझील स्थित बीबी कॉलेज में जिला...

खराब हो गया है तेजस्वी यादव का मानसिक संतुलन : युवा JDU

बेगूसराय : विधानसभा में राजद नेता तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री पर किए गए बयानबाजी के विरुद्ध शनिवार को युवा जदयू के कार्यकर्ताओं ने बेगूसराय...