Saturday, November 28, 2020

एक गरीब आदिवासी महिला की इस हिम्मत को देखेंगे तो वाकई सैल्यूट करेंगे!

Must read

बड़ी खबर U.P : भगवान श्री राम के नाम पर होगा अब यूपी का हवाई अड्डा, कैबिनेट से मिली मंजूरी

  लखनऊ : रामनगरी अध्योध्या में निर्माणाधीन हवाई अड्डे का नाम भी भगवान श्रीराम के नाम पर होगा। हवाई अड्डे का नामकरण मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम...

गोरखपुर : केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री से मिले सांसद रवि किशन,नहीं बंद होगी गोरखपुर आकाशवाणी की मशीने

गोरखपुर : आकाशवाणी गोरखपुर केंद्र के श्रोताओं, कलाकारों और कर्मचारियो के लिए एक बेहद अच्छी खबर है।कई दिनों से बंद होने की चर्चा में...

दिल्ली में कोरोना के 4454 नए मामले, 121 की मौत…..

नई दिल्ली : राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में कोरोना का कहर जारी है। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 4454 नए मामले...

गोरखपुर : केक काटकर सपाइयों ने मनाया सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन

गोरखपुर / समाजवादी पार्टी के संरक्षक, पूर्व रक्षा मंत्री एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के 82वें जन्म दिन को गोरखपुर...

बूढ़ी सास और छोटे-छोटे चार बच्चों का पेट भरने के लिए एक आदिवासी महिला हिम्मत नही हारी बल्कि और मजबूत इरादों से खेत मे काम करना शुरू किया। कारीबाई ने बताया कि उनकी बड़ी बेटी कृष्णा स्कूल नही जाती है। घर और खेत के काम मे उनकी मदद करती है। मध्य प्रदेश के देवास जिले के कन्नौद क्षेत्र के कुसमानिया-दीपगांव मार्ग स्थित ग्राम भिलाई के पठार पर खेती का नजारा इस मार्ग से निकलने वाले सभी राहगीर देखकर निकल जाते है। भिलाई के पठार पर आदिवासी एवं अन्य परिवार के करीब 25 घर होंगे। इन्ही के गांव में कारीबाई पति हरदास बारेला भी रहती है। जो अपनी 4 एकड़ कृषि भूमि में मक्का एवं मूगफली उगाकर परिवार का पालन पोषण कर रही है।

कारीबाई ने बताया कि 3 साल पहले एक सड़क हादसे में उनके पति हरदास और बेटे संतोष की मौत हो गई। तब से ये अपना परिवार पालने के लिए खेती और मजदूरी कर रही है।

कृषि को लाभ का धंधा बनाने के लिए बात पर सरकार द्वारा जोर दिया जाता है, और किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए कृषि उपकरणों एवं खाद-बीज भी अनुदान पर दिया जाता है | लेकिन जमीनी स्तर पर ये योजनाएं कितनी पात्र हितग्राहियो तक पहुंचती है ये बताना मुश्किल है। सरकार की योजना का लाभ मिले या न मिले। फिर भी किसान को अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए खेती तो करनी पड़ती है।

ऐसा ही एक मामला कन्नौद तहसील के ग्राम भिलाई में देखने को मिला। जहां अपने परिवार का पालन-पोषण करने के लिए माँ-बेटी मिलकर डोरे चला रही है। अपनी फसल में उगे अनावश्यक घास के लिए बेटी बनी बैल और माँ डोरे को संभाल रही है।
इस संबंध में पंचायत सचिव राजेश बागवान ने बताया कि कारीबाई को पंचायत स्तर से पीएम आवास, शौचालय, कल्याणी पेंशन और बीपीएल कार्ड का लाभ दिया है। पात्रता अनुसार जो भी योजनाएं आएगी उनका लाभ भी प्राथमिकता से दिया जाएगा।

इस संबंध में कृषि विभाग के अनुविभागीय अधिकारी आरके वर्मा से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि अब तक मुझे यह मामला जानकारी में नही था। अब कृषि विभाग की योजनाओं का लाभ प्राथमिकता से दिया जाएगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...