Wednesday, February 24, 2021

नागालैंड में स्कूलों के विश्व बैंक ने दिया तोहफा

Must read

नए कृषि कानून पर क्या कहा मोदी को प्रियंका गांधी ने

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन 2 महीने से ज्यादा का हो चला है. इसी बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी मुजफ्फरनगर के किसान...

मुज़फ्फरनगर में मंत्रीयों को मिला किसानों का समर्थन

मुज़फ्फरनगर जनपद में सोमवार की दोपहर बुढ़ाना विधानसभा इलाके के गांव शोरम में हुए संजीव बालियान और रालोद समर्थको के बिच हाथापाई और मारपीट...

चीन ने माना गलवान में उसके सैनिक मारे गये

नई दिल्ली,  पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के सात महीने बाद आखिरकार चीन ने आज कबूला कि...

सामने आयी सोनू सूद की फिर दरियादिली, चमोली त्रासदी पीड़ित बच्चों को दी ये सौगात

मुंबई, बीते 7 फरवरी को चमोली में आई त्रासदी  ने समूचे उत्तराखंड के साथ ही देश-विदेश के लोगों को भी बुरी तरह हिलाकर रख...

नागालैंड के स्कूलों के प्रशासनिक कामकाज में सुधार के साथ ही चुनिंदा स्कूलों में शिक्षा की प्रक्रियाओं और पढ़ाई के माहौल को बेहतर बनाने के लिए विश्व बैंक 6.8 करोड़ डॉलर का ऋण देगा।
इस संबंध में हुए एक करार पर भारत सरकार, नागालैंड सरकार और विश्व बैंक ने मंगलवार को हस्ताक्षर किए। इस समझौते पर भारत सरकार की तरफ से आर्थिक मामलों के विभाग के अतिरिक्त सचिव सी एस महापात्र , नागालैंड सरकार की तरफ से मुख्य निदेशक, स्कूली शिक्षा विभाग शानवास सी और विश्व बैंक की तरफ से कंट्री निदेशक जुवैद अहमद ने हस्ताक्षर किए।
“नागालैंड : कक्षा शिक्षण और संसाधन सुधार परियोजना” से कक्षा में पढ़ाई में सुधार होगा; शिक्षकों के व्यावसायिक विकास के लिए अवसर पैदा होंगे। साथ ही विद्यार्थियों व शिक्षकों को उपलब्ध कराने के लिए तकनीक प्रणाली बनाई जाएंगी, जिससे मिलीजुली व ऑनलाइन शिक्षा तक व्यापक पहुंच के साथ ही नीतियों और कार्यक्रमों की बेहतर निगरानी सुनिश्चित होगी। इस तरह का एकीकृत दृष्टिकोण पारम्परिक डिलिवरी मॉडलों का पूरक होगा और इससे कोविड-19 से पैदा हुई चुनौतियों से पार पाने में भी मदद मिलेगी। स्कूलों में राज्यव्यापी सुधारों से नागालैंड में सरकारी शिक्षा प्रणाली में लगभग 1,50,000 विद्यार्थियों और 20,000 शिक्षक लाभान्वित होंगे।
नागालैंड के शिक्षा प्रबंधन और सूचना प्रणाली (ईएमआईएस) को मजबूत बनाने से शिक्षा संसाधनों तक व्यापक पहुंच सुनिश्चित होगी; शिक्षकों और शिक्षा प्रबंधकों के लिए व्यावसायिक विकास और प्रदर्शन मूल्यांकन प्रणालियों को समर्थन मिलेगा; स्कूल नेतृत्व सुविधाजनक और प्रबंधन बेहतर होगा; परीक्षा सुधारों को समर्थन मिलेगा।
शिक्षा विशेषज्ञ और इस परियोजना के लिए विश्व बैंक के टास्क टीम लीडर श्री कुमार विवेक ने कहा कि यह परियोजना राज्य के सुधार और स्कूलों में पढ़ाई के माहौल में सुधार के प्रयासों को समर्थन देगी जिससे वह बच्चों पर केंद्रित आधुनिक तकनीक, कुशल शिक्षण और पढ़ाई के दृष्टिकोण में सहयोगी और भावी झटकों के लिए लचीली हो सके।
इस रणनीति के तहत, नागालैंड के 44 उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में से 15 को ऐसे स्कूल परिसरों के रूप में विकसित किया जाएगा, जहां परियोजना अवधि के दौरान परिकल्पित सीखने के माहौल को तैयार किया जा सकता हो।
अंतर्राष्ट्रीय पुनर्गठन एवं विकास बैंक से मिलने वाला 6.8 करोड़ डॉलर के कर्ज परिपक्वता अवधि 14.5 वर्ष होगी, जिसमें 5 साल की ग्रेस अवधि शामिल है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

चीन को मिला बड़ा झटका

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने बांग्लादेश के अपने समकक्ष एके अब्दुल मोमन के साथ आर्थिक, रक्षा और आतंकवाद रोधी सहयोग को गहरा...

भाजपा ने लोकतांत्रिक व्यवस्था और संस्थानों का किया नुकसान-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमं अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा ने लोकतांत्रिक व्यवस्था और संस्थानों का जितना नुकसान किया...

ग्लेसियर फटने से मची भीषण तबाही 25 लोगों की जान बचाने वाली महिला को समाजवादी पार्टी में किया गया सम्मानित

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आज समाजवादी पार्टी उत्तराखण्ड की ओर से उत्तराखण्ड में ग्लेसियर फटने...

गुस्साई पत्नी ने पति के दोस्तों पर चला दी गोलियां

पति-पत्नी के झगड़े होना आम बात है, लेकिन कभी-कभी तकरार काफी बढ़ जाती है और आपराधिक कदम पर आकर रुकती है. ऐसा ही हुआ...

सबसे सस्ती 32 इन्च की नई स्मार्ट टीवी

रियलमी  ने अपने प्लैटफॉर्म पर रियलमी डेज़ सेल  की शुरुआत की है, और कंपनी ने यहां पर कई तरह के ऑफर्स देने का ऐलान...