Friday, February 26, 2021

लाल किले की घटना से सिर शर्म से झुक गया, किसान आंदोलन होगा कमजोर : अमरिंदर

Must read

केंद्रीय बैंक एक डिजिटल करंसी पर काम कर रहा -गवर्नर शक्तिकांत

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज कहा कि केंद्रीय बैंक एक डिजिटल करंसी पर काम कर रहा है, जोकि पूरी तरह...

जानिए कौन है शबनम, और उसके बेमेल इश्क की खुनी दास्तां

शबनम अली, उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले के हसनपुर थाना क्षेत्र के बावनखेड़ी गांव की रहने वाली है। शबनम के पिता शौकत अली शिक्षक...

नगरीय निकायों के सभी खाते ई-नगरपालिका पोर्टल किए जाएगें लिंक

मध्यप्रदेश के नगरीय निकायों के सभी खाते ई-नगरपालिका पोर्टल से लिंक किये जाएंगे। आधिकारिक जानकारी के अनुसार प्रदेश के नगरीय निकायों में सभी प्रकार के...

शराब माफिया के साथ पुलिस मुठभेड़ पर मंत्री का अजीब बयान

बिहार में पूर्ण शराबबंदी के बावजूद शराब माफिया का मनोबल बढ़ता ही जा रहा है. शराब माफिया आए दिन बिहार में कोई न कोई...

चंडीगढ़ : दिल्ली में ख़ासकर लाल किले पर गणतंत्र दिवस के मौके पर हुई हिंसा की निंदा करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने इसे देश का अपमान बताते हुये कहा कि इससे देश को बदनामी झेलनी पड़ी है और इससे किसान आंदोलन कमज़ोर हुआ है ।

उन्होंने आज यहां स्पष्ट किया कि वह कृषि कानूनों के ग़लत और देश के संघीय ढांचे के खि़लाफ़ होने के कारण किसानों के साथ खड़े रहेंगे। उन्होंने कहा कि लाल किला आज़ाद भारत का प्रतीक है और आज़ादी एवं राष्ट्रीय झंडे को लाल किले पर लहराने के लिए न जाने कितने भारत माता के सपूतों ने अपने प्राण न्योछावर किये ।

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने आज़ादी की समूची लड़ाई अहिंसा से लड़ी। राष्ट्रीय राजधानी में कल जो कुछ हुआ, उससे मेरा सिर शर्म से झुक जाता है। जिसने भी लाल किले में हिंसा की है उसने पूरे मुल्क को बदनामी का पात्र बनाया है और दिल्ली पुलिस को मामले की जांच करके कार्रवाई करनी चाहिए।

कैप्टन सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार को इस मामले की जाँच करनी चाहिए लेकिन किसी किसान नेता को बेवजह तंग न किया जाये। जिन्होंने हिंसा की वे लोग किसान नहीं बल्कि रास्ते से भटके हुए हैं । यदि सरकार लोगों की आवाज़ नहीं सुनती तो ऐसी समस्याएँ पैदा होती रहेंगी। एक सरकार, लोगों के लिए और लोगों द्वारा होती है और यह लोगों की राय को नजऱअंदाज़ नहीं कर सकती।

उनके अनुसार भाजपा नीत राजग सरकार अगले संसदीय चुनाव में लोगों की पसंद नहीं बन सकेगी, क्योंकि 70 प्रतिशत आबादी किसानों की है। कृषि कानून ग़लत हैं और कृषि राज्यों का विषय है ,फिर भी अध्यादेश लाने से पहले हमसे नहीं पूछा गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आम आदमी पार्टी द्वारा गुमराह करने वाला प्रचार किया जा रहा है और सत्य तो बल्कि यह है कि पंजाब को तो विशेषज्ञों की समिति में शामिल भी नहीं किया गया था, क्योंकि केंद्र को पता था कि पंजाब इन कानूनों का विरोध करेगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

भाजपा राज में जनता कराहने लगी-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में जनता कराहने लगी है। मंहगाई के चूल्हे...

पुलिस ने की माल में चोरी, देखिए ये वीड़ियो

वर्दी के नीचे कई शर्ट पहन कर चोरी कर ले जा रहा गोमतीनगर विस्तार का चोरकट सिपाही मेटल डिटेक्टर से पकड़ा गया,कर्मचारियों ने की...

पूर्वांचल दौरे पर अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं ने जोरदार किया स्वागत

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव वाराणसी पहुंच गए। वह तीन दिन के पूर्वांचल के दौरे पर आए हैं। वाराणसी एयरपोर्ट...

पारंपरिक ऐपण कलाकृति को मिल रहा नया आयाम

उत्तराखंड की पारंपरिक ऐपण कलाकृति को नया आयाम मिल रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हालिया दिल्ली दौरे पर केंद्रीय मंत्रियों को ऐपण...

फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी में कैसे ली Alia ने फिल्म में एंट्री

बॉलीवुड फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ (Gangubai Kathiawadi) का टीज़र हाल ही में रिलीज किया गया जिसमें आलिया भट्ट (Alia...