Tuesday, March 2, 2021

रेलवे पुलिस ने 20 दिन में इतने खोये बच्चों को परिवार से मिलाया

Must read

इन टीमो ने आईपीएल आयोजन स्थल पर जताई आपत्ति

राजस्थान रॉयल्स, पंजाब किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 14वें सत्र के आयोजन स्थलों को लेकर आपत्ति जताई है। तीनों...

उत्तर प्रदेश में कोरोना के टीकाकरण के तीसरे चरण की शुरूआत

लखनऊ, उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस टीकाकरण के तीसरे चरण की सोमवार को शुरूआत हो गई ।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजधानी के डॉ. श्यामा...

पाकिस्तानी रेडियो सिग्नल मिलने से सुरक्षा एजंसियां अलर्ट

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के साथ लगने वाली सीमा के समीप पाकिस्तानी टेलीकॉम ऑपरेटरों के सिग्नल मिलने से पहले से ही अलर्ट पर चल रही...

कोरोना से मरने वालों की संख्या तीन दिन बाद 100 के पार

दिल्ली , देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 104 पर पहुंच गयी जबकि इससे पहले तीन...

जौनपुर: पुलिस अधीक्षक रेलवे झांसी, आगरा आशीष तिवारी ने आज कहा कि पिछले 20 दिनों में 100 से अधिक गुम हुए बच्चों को विभिन्न जनपद व राज्यों से आगरा एवं झाँसी अनुभाग की विशेष टीम के प्रयासों से खोजकर उनके परिवारों से मिलाया गया ।

तिवारी ने शुक्रवार को हमारे जौनपुर प्रतिनिधि को कहा कि अपर पुलिस अधीक्षक रेलवे आगरा मो0 मुश्ताक के नेतृत्व में जीआरपी अनुभाग आगरा व झाँसी के अन्तर्गत वर्ष 2018,19 व 20 में गुम हुए बच्चों की बरामदगी के लिये गृह मंत्रालय द्वारा संचालित ‘आपरेशन मुस्कान’ के तहत दोनों अनुभागों के अन्तर्गत आने वाले गुमशुदा बच्चों की शत्-प्रतिशत बरामदगी करने हेतु एक अभियान चलाया गया। अभियान के दौरान विगत लगभग 20 दिनों में 100 से अधिक बच्चों को जिसमे विभिन्न जनपद एवं राज्यों से बरामद कर उनके परिवारों से मिलाया।

ये भी पढ़ें-नेशनल जियोग्राफिक इंडिया का ‘स्पॉटलाइट’ 23 जनवरी से विशेष फिल्‍मों का प्रीमियर करेगा

उन्होंने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिए सर्वप्रथम दोनों अनुभागों के अन्तर्गत आने वाले समस्त जनपदों एवं जीआरपी के थानों से गुम हुए बच्चों का डाटा संकलन किया गया। डाटा संलकन के पश्चात गुम हुए बच्चों से सम्बन्धित पूर्ण जानकारी सहित एक एल्बम तैयार की गयी, जिसमें कुल 231 बच्चे गुमशुदा पाये गये।

इन सभी बच्चों को बरामद करने के लिए एक टीम व बेहतर रणनीति की आवश्यकता थी। जिसके लिए सबसे पहले एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर तैयार की गयी। इसके पश्चात दोनों अनुभागों से समर्पित एवं जो पुलिस कर्मी सामाजिक कार्यों में रुचि रखने एवं सामाजिक कार्यों के लिए प्रोत्साहित रहने वाले पुलिस कर्मियों का साक्षात्कार के माध्यम से चयन किया गया।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

नंदकुमार सिंह चौहान का निधन हम सब के लिए बड़ी क्षति: मिश्रा

भोपाल, मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने खंडवा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद एवं पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के निधन...

शंकर लालवानी ने नंदकुमार के निधन पर शोक जताया

इंदौर, मध्यप्रदेश के खंडवा संसदीय क्षेत्र से सांसद और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता नंदकुमार सिंह चौहान के निधन पर इंदौर सांसद...

भाजपा सांसद नंदकुमार चौहान का निधन

दिल्ली,  मध्य प्रदेश के खंडवा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद नंदकुमार सिंह चौहान का मंगलवार सुबह यहां के समीप गुरुग्राम स्थित मेदांता...

चेक गणराज्य ने उद्यमों तथा कंपनियों में कोरोना की जांच को किया अनिवार्य

प्राग  चेक गणराज्य ने उद्यमों तथा कंपनियों में 12 मार्च से सप्ताह में एक बार कोरोना वायरस (कोविड-19) की जांच को अनिवार्य कर दिया...

बेल्जियम की एक अप्रैल से पर्यटकों की यात्रा से ऐसे हट सकता है प्रतिबंध

ब्रुसेल्स,  बेल्जियम कोरोना वायरस के नये स्ट्रेन के प्रसार के खतरों के कारण इस वर्ष की शुरुआत में पर्यटक और देश के बाहर की...