Saturday, November 28, 2020

पाकिस्तान संसदीय पैनल करेगा कुलभूषण जाधव की सजा की समीक्षा

Must read

बिहार विधानसभाः AIMIM विधायक ने कहा-‘हिंदुस्तान’ नहीं, ‘भारत’ के संविधान की शपथ लूंगा

विधानसभा में सदस्यता की शपथ लेते वक्त 'हिंदुस्तान' शब्द पर आपत्ति जताने वाले एआईएमआईएम के विधायक अख्तरुल ईमान ने सदन से बाहर निकलते ही...

मुज़फ्फरनगर : गंगा नहर में गिरी कार, फिर हुई बड़ी घटना

मुज़फ्फरनगर में मंगलवार सुबह दिल्ली हरिद्वार गंग नहर पटरी पर हुए सड़क हादसे में एक युवती की मौत हो गयी और कार सवार दो...

दिल्ली के 90 अस्पतालों में 60 प्रतिशत बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित

नई दिल्ली : दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने एक बार फिर दोहराया कि प्रदेश के 90 अस्पतालों में 60 प्रतिशत बेड कोरोना...

दामिनी के माता-पिता मिले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र से , दोषियों को फाँसी की माँग की

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री आवास में दामिनी (काल्पनिक नाम) के माता-पिता ने भेंट की। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड...

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्तान संसदीय पैनल ने उनकी सजा की समीक्षा के लिए सरकार के बिल को मंजूरी प्रदान कर दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान नेशनल असेंबली की स्टैंडिंग कमेटी ऑन लॉ एंड जस्टिस ने बुधवार को कुलभूषण जाधव के दोष सिद्धि की पुनर्विचार याचिका स्वीकार की है ।

कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान के मिलिट्री कोर्ट ने जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाई है। पाकिस्तान दावा करता है कि उसने जाधव को बलूचिस्तान से 2016 में जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया था। भारत पाकिस्तान के इस दावे को लगातार खारिज करता रहा है। भारत का पक्ष है कि कुलभूषण जाधव को ईरानी बंदरगाह चाबहार से अपहृत किया गया है। 2017 में पाकिस्तान के मिलिट्री कोर्ट ने कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाई थी।

भारत ने पाकिस्तान के मिलिट्री कोर्ट के फैसले और जाधव को राजनयिक संपर्क देने से इनकार करने के खिलाफ वर्ष 2017 में ही इंटरनेशनल कोर्ट में अपील की थी। हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ने जुलाई 2019 में दिये फैसले में कहा कि पाकिस्तान जाधव को दोषी ठहराने और सजा देने के फैसले की प्रभावी तरीके से समीक्षा करे और पुनर्विचार करे। इसके साथ ही कोर्ट ने भारत को जाधव तक राजनयिक पहुंच देने का आदेश दिया था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस बिल के जरिये पाकिस्तान सरकार भारत को इंटरनेशनल कोर्ट में पाकिस्तान के खिलाफ संभावित अवमानना का मुकदमा दर्ज कराने से रोकना चाहता है। अगर ऐसा नहीं होता और मामला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को भेज दिया जाता है तो पाकिस्तान को प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। फेडरल मिनिस्टर फॉर लॉ एंड जस्टिस फरोघ नसीम ने कहा कि जाधव के दोष सिद्धि के बिल के खिलाफ पुनर्विचार याचिका इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (रिव्यू एंड रिकंसीडरेशन) अध्यादेश के दिशा निर्देशों के अनुसार बनाई गई है। इस अध्यादेश की मदद से कुलभूषण जाधव हाईकोर्ट में अपनी सजा के खिलाफ अनुरोध कर सकते हैं।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...