Friday, December 4, 2020

जोरहाट : डॉ देवेन दत्त हत्याकांड मामले में एक को फांसी, 24 को उम्रकैद

Must read

RLSP ने मोदी सरकार को बताया दमनकारी, उपेंद्र कुशवाहा बोले- किसान विरोधी है सेंट्रल गवर्नमेंट

देश में चल रहे किसानों के आंदोलन को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने समर्थन किया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी ने...

मोदी के बनारस पर अखिलेश की नज़र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर समाजवादी पार्टी पार्टी की अक्सर नजर बनी रहती है। चलिए आपको लेकर चलते हैं 2014 के...

सपा के वरिष्ठ नेता ने कहा – लोकतन्त्र की आत्मा को कुचल रही है सरकार, जाने क्यों

बलिया : यूपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी ने कृषि बिल के खिलाफ दिल्ली जा रहे किसानों के साथ सरकार के व्यवहार को...

शेहला रशीद को विदेश से कौन करता है फंडिंग , पिता का जवाब !

लेफ्ट पार्टी की एक्टिव सदस्य थी शेहला रशीद। उनके पिता अब्दुल राशिद शोरा ने गंभीर आरोप लगाए है और जम्मू-कश्मीर के डीजीपी से मामले...

जोरहाट (असम)। डॉ देवेन दत्त हत्या मामले में न्यायालय ने एक आरोपित को फांसी और 24 को आजीवन कारावास की सजा सुनायी है। डॉ देवेन दत्त हत्या मामले में न्यायालय का फैसला आने के बाद असम के जाने-माने मानवाधिकार तथा समाजिक कार्यकर्ता डॉ दिव्यजीत सैकिया ने कहा कि सामूहिक हत्या मामले में हत्यारों को कड़ी सजा मिले इसका कानून जल्द लागू होनी चाहिए।

ज्ञात हो कि 31 अगस्त, 2019 को जोरहाट जिला के टीयक चाय बागान के डॉ देवन दत्त नामक एक चिकित्सक की सामूहिक भीड़ द्वारा बड़ी बेरहमी से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। मंगलवार को डॉ हत्या मामले में जोरहाट सत्र न्यायालय ने अपना फैसला सुनाते हुए एक आरोपित को फांसी और 28 आरोपितों को आजीवन कारावास की सजा सुनायी है।

मृत्युदंड की सजा संजय राजवार नामक हत्यारे को सुनाई गई है। संजय को मौत की सजा सुनाए जाने के बाद राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय शांति कई पुरस्कारों से नवाजे गये डॉ दिव्यज्योति सैकिया ने इसका स्वागत किया है।

उन्होंने कहा कि इस तरह की हत्या, हिंसा को रोकने के लिए राष्ट्रीय या राज्य के स्तर पर एक कठोर कानून की जरूरत है। डॉ देवेन दत्त की सामूहिक भीड़ द्वारा हत्या किए जाने के 22 दिन के भीतर 106 पन्नों की चार्जशीट दाखिल करना और 32 लोगों को गिरफ्तार कर तत्कालीन जोरहाट जिला के पुलिस अधीक्षक वैभव सी निंबालकर ने एक मिसाल कायम की थी। वह उन का तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हैं। वहीं डॉ सैकिया ने कहा कि डॉ देवेन हत्या मामले में असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल द्वारा लिया गया निर्णय काफी प्रशंसनीय रहा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब नौसेना पूरे हिन्द महासागर को कर सकेगी ट्रैक, जाने कैसे

नई दिल्ली : भारतीय नौसेना का सूचना प्रबंधन और विश्लेषण केंद्र (आईएमएसी) राष्ट्रीय समुद्री डोमेन जागरुकता (एनएमडीए) केंद्र में तब्दील होगा। यह नेशनल कमांड...

Mission-2024 की तैयारी में जुटी BJP, अगले महीने उत्तराखंड से शुरू होगा जेपी नड्डा का राष्ट्रीय दौरा

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने वर्ष 2024 के आम चुनावों की तैयारियों का आगाज कर दिया है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा...

महाराष्ट्र : बीजेपी को घर में मिली मात

महाराष्ट्र में बीजेपी को बड़ी हार मिली है। महाराष्ट्र में विधान परिषद चुनावों में बीजेपी को यह हार महा विकास आघाडी ने दी है।...

मोदी के बनारस पर अखिलेश की नज़र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर समाजवादी पार्टी पार्टी की अक्सर नजर बनी रहती है। चलिए आपको लेकर चलते हैं 2014 के...

MLC Election update : 11 सीटों में से 6 सीटों पर आया परिणाम, राज्य चुनाव आयोग ने जारी किया रिजल्ट

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की 11 सीट पर मतगणना अपडेट, 6 सीटों पर आया परिणाम, राज्य चुनाव आयोग ने जारी किया रिजल्ट.