Friday, December 4, 2020

विदेशी चंदे को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की आलोचना को भारत ने किया खारिज

Must read

हरदोई में गंगा की रुख बदलती धारा ने गांव को किया बर्बाद..

हरदोई जनपद में गंगा की धारा के रुख बदल देने से गंगा नदी के आस पास के गांवों के करीब एक दर्जन मकान नदी...

सहारनपुर : MLC चुनाव के मद्देनजर बंद रहेंगी सभी शराब की दुकाने

1 दिसंबर को होने जा रहे एमएलसी चुनाव के मद्देनजर बंद रहेंगी जनपद सहारनपुर की सभी शराब की दुकानें, बता दें कि 1 दिसंबर...

धर्मेंद्र यादव दिल्ली से लौटे यूपी बने “DIG कानून व्यवस्था”

उत्तर प्रदेश के तेजतर्रार अफसरों में एक धर्मेंद्र यादव प्रतिनियुक्ति से वापस उत्तर प्रदेश लौट आए हैं, धर्मेंद्र यादव को यूपी लौटते ही महत्वपूर्ण...

बड़ी खबर : सिंघु बॉर्डर से विज्ञान भवन पहुंचे किसान नेता, सरकार और संगठन के बीच बैठक शुरू

नई दिल्ली : किसान आंदोलन को लेकर गुरुवार को होने वाली बैठक शुरू हो गई है। दिल्ली के विज्ञान में किसानों की ओर से...

नई दिल्ली। भारत ने तथाकथित मानवाधिकार संस्थाओं और स्वयंसेवी संगठनों पर विदेशी चंदे पर लगाए गए अंकुश को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) की आलोचना को खारिज कर दिया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने मंगलवार को यूएनएचआरसी की कमिश्नर मिशेल बेस्लेट की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मानवाधिकारों के नाम पर कानून का उल्लंघन करने की अनुमति नहीं दी जा सकती। विश्व संस्था से अपेक्षा है कि वह इन मामलों में अधिक समझदारी का परिचय दे।

प्रवक्ता ने कहा कि विदेश मंत्रालय ने विदेशी चंदा नियमन कानून के बारे में संयुक्त राष्ट्र अधिकारी की टिप्पणी पर गौर किया है। भारत एक लोकतांत्रिक देश है जो कानून के शासन और स्वतंत्र न्यायपालिका से संचालित होता है। कानून बनाना भारत की संसद का संप्रभु अधिकार है।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों केन्द्र सरकार ने एमनेस्टी इंटरनेशनल द्वारा विदेशों से चंदा लेने के संबंध में अंकुश लगाया था। विदेशी मुद्रा नियमन कानूनों का उल्लंघन करने के आरोप में इस संस्था के बैंक खातों पर रोक लगा दी गई थी। इसके बाद एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में अपना कामकाज समेटने की घोषणा की थी।

मानवाधिकार परिषद की कमिश्नर ने भारत को नसीहत दी थी कि सकारात्मक आलोचना किसी लोकतांत्रिक व्यवस्था का प्रमुख आधार है। सरकार से यह अपेक्षा है कि किसी आलोचना के अप्रिय लगने के बावजूद अभिव्यक्ति को गैर-कानूनी न करार दिया जाए।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Mission-2024 की तैयारी में जुटी BJP, अगले महीने उत्तराखंड से शुरू होगा जेपी नड्डा का राष्ट्रीय दौरा

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने वर्ष 2024 के आम चुनावों की तैयारियों का आगाज कर दिया है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा...

महाराष्ट्र : बीजेपी को घर में मिली मात

महाराष्ट्र में बीजेपी को बड़ी हार मिली है। महाराष्ट्र में विधान परिषद चुनावों में बीजेपी को यह हार महा विकास आघाडी ने दी है।...

मोदी के बनारस पर अखिलेश की नज़र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर समाजवादी पार्टी पार्टी की अक्सर नजर बनी रहती है। चलिए आपको लेकर चलते हैं 2014 के...

MLC Election update : 11 सीटों में से 6 सीटों पर आया परिणाम, राज्य चुनाव आयोग ने जारी किया रिजल्ट

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की 11 सीट पर मतगणना अपडेट, 6 सीटों पर आया परिणाम, राज्य चुनाव आयोग ने जारी किया रिजल्ट.    

11 विधान परिषद की सीटों पर 199 प्रत्‍याशियों ने आजमाया अपना भाग्य

खंड स्नातक (Graduate Constituency) की 5 और खंड शिक्षक (Teachers Constituency) निर्वाचन क्षेत्र की 6 सीटों के लिए मतगणना जारी है। (1. )Gorakhpur शिक्षक स्नातक...