Sunday, January 24, 2021

सीना चीर लूंगा तो अखिलेश जी की मूर्ति निकलेगी- नए नवेले कार्यकर्ता

Must read

दक्षिण कश्मीर में स्कूल की इमारत में लगी आग, भारी नुकसान

अनंतनाग:  दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में एक सरकारी प्राइमरी स्कूल की इमारत में आग लगने से जलकर खाक हो गई। आधिकारिक सूत्रों ने...

ट्रम्प के लगाए इस प्रतिबंध के फैसले को वापस लेंगे बिडेन, जानें क्या करेंगे बदलाव

वाशिंगटन,  अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन ने अपने पूर्ववर्ती डोनाल्ड ट्रम्प की ओर से कई मुस्लिम देशों पर लागू यात्रा प्रतिबंध को हटाये...

जेपी नड्डा चुनावी तैयारियां तेज करने आज आ रहे हैं लखनऊ

बीजेपी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) गुरुवार 21 जनवरी से उत्तर प्रदेश में दो दिन के दौरे पर रहेंगे। नड्डा अपने लखनऊ...

क्रिकेटर शिखर धवन पर वाराणसी जिला प्रशासन करने जा रहा कार्रवाई, जानें पूरा मामला

वाराणसी (Varanasi) दौरे पर पहुंचे इंडियन क्रिकेटर शिखर धवन (Cricketer Shikhar Dhawan) विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं. दरअसल वाराणसी में नौका विहार...

समाजवादी पार्टी में इस वक्त कई सारे नए नवेले कार्यकर्ता आ रहे हैं यह कार्यकर्ता दूसरी पार्टियों से अब समाजवादी पार्टी की तरफ रुख कर रहे हैं मगर जब इनकी बात आप सुनेंगे तो आपको लगेगा कि यह पुराने कार्यकर्ताओं से भी बड़े समाजवादी कार्यकर्ता है जिस तरीके से इन कार्यकर्ताओं को अब अपने नए नेता के प्रति प्रेम मंच से न्योछावर कर रहे हैं इससे लगता है कि समाजवादी पार्टी के पुराने कार्यकर्ता भी अखिलेश यादव से इतना प्रेम नहीं करते होंगे जितना अब नए नवेले नेता याद नए नवेले कार्यकर्ता करना शुरू कर दिए हैं अभी कुछ दिन पहले अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई उस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस और बसपा के कुछ पुराने नेता पूर्व सांसद पूर्व विधायक और ब्लॉक प्रमुख जैसे नेता के साथ तमाम कार्यकर्ताओं ने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की और एक सुर में 2022 में अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया साथ में 24 का भी संकल्प ले लिया कि 24 में अखिलेश यादव को प्रधानमंत्री बनाएंगे मगर उसी दौरान सभी नेता एक लाइन से अपनी बात मंच पर आकर रख रहे थे उसी बीच एक नेता पहुंचे नए नवेले उन्होंने कहा अगर हम अपना सीना चीर के दिखा देंगे तो सीने के अंदर से अखिलेश जी की मूर्ति निकलेगी यह बात अखिलेश भी बैठकर सुन रहे थे और उनके कार्यकर्ता और पत्रकार गढवी मगर किसी ने कहा नहीं आखिर यह कैसे हो सकता है, मगर नई नवेले नेता जी ने कह दिया तो कह दिया इन नेता जी का नाम था, हाफिज रशीद खान (ब्लाक प्रमुख) फिलहाल नेताजी अब बसपा से सपा में आ गए हैं मगर सवाल बड़ा है क्या बसपा में भी सीने के अंदर अखिलेश यादव की मूर्ति थी या बहन जी की

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Delhi : राशन लेने के दौरान फिंगर प्रिंट ही नहीं, बुजुर्गों का नहीं मैच हो रहा रैटिना

नई दिल्ली :  ई-पोस द्वारा राशन वितरण करने के दौरान नेटवर्किंग संबंधी परेशानियों की बातें लगातार सामने आ रही हैं। वही पायलेट प्रोजेक्ट में...

हिंदू पुजारियों पर Corona पीड़ितों की अंत्येष्टि के लिए ज्यादा शुल्क वसूलने का आरोप

दक्षिण अफ्रीका में कुछ हिंदू पुजारियों (Hindu priests) पर कोविड-19 के कारण मरने वाले लोगों की अंत्येष्टि के लिए अधिक शुल्क वसूले जाने के...

कारगिल में पर्यटन की हैैं अपार संभावनाएं : पटेल

नई दिल्ल : हाल ही में जम्मू-कश्मीर से अलग होकर लद्दाख केन्द्रशाषित प्रदेश बना है। इससे पहले कभी भी लद्दाख को खासकर कारगिल में...

Farmers Protest : महाराष्ट्र में उमड़ा किसानों का सैलाब, ठाकरे-पवार देंगे समर्थन

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को मुंबई के आजाद मैदान में होने वाली रैली में शामिल होने...

PM मोदी NCC कैडेट्स से मिले, Corona काल में अभूतपूर्व सहयोग को सराहा

नई दिल्ली : पीएम नरेंद्र मोदी ने आज गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले NCC कैडेट्स से मिले। उन्होंने इस अवसर पर संबोधित...