Saturday, January 16, 2021

किसानों पर शर्मनाक बल प्रयोग के लिए भारत सरकार माफी मांगे- रामगोविन्द चौधरी

Must read

इंदौर में कल से प्रारम्भ होगा कोरोना का वैक्सीनेशन

इंदौर,  मध्यप्रदेश के इंदौर में ‘कोरोना फ्रंटलाइन वारियर्स’ को कल 16 जनवरी से ‘कोविशील्ड वैक्सीन’ के टीके लगाए जाएंगे। आधिकारिक जानकारी के अनुसार टीके लगाने...

Ranchi : राज्यपाल ने जेवियर्स कॉलेज के परीक्षा नियंत्रक के निधन पर जताया शोक

  Ranchi: झारखंड के राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने संत जेवियर्स कॉलेज के परीक्षा नियंत्रक प्रो. ए. के. सिन्हा (Pro. a. K. Sinha) के...

जानें Sydeny में किन बल्लेबाजों ने टेस्ट कराया ड्रा, 15 को होगा ट्रॉफी का फैसला

सिडनी : ऋषभ पंत (97), चेतेश्वर पुजारा (77), रविचंद्रन अश्विन (नाबाद 39) और हनुमा विहारी (नाबाद 23) के अदम्य साहस और जबरदस्त संघर्ष क्षमता...

यूपी की फिल्म सिटी में नजर आएगी हॉलीवुड की झलक, जाने क्या कुछ होगा ख़ास

नोएडा, यूपी सरकार के ड्रीम प्रॉजेक्ट नोएडा फिल्म सिटी की डीपीआर बनाने के लिए हॉलिवुड की जानी-मानी अमेरिकन कंपनी सीबीआरई व यमुना अथॉरिटी के...

आंदोलन में प्राणों की आहुति देने वाले किसानों को दे शहीद का दर्जा
– कृषि सम्बन्धी नए काले कानूनों को तत्काल ले वापस
– MSP को दे कानूनी रूप – नेता प्रतिपक्ष


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने भारत सरकार से आग्रह किया है कि वह किसानों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर किए गए शर्मनाक बल प्रयोग के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगे, इसके लिए दोषी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे, किसान आंदोलन में अपने प्राणों की आहुति देने वाले किसानों को शहीद का दर्जा प्रदान करे, कारपोरेट के हित में बनाए गए कृषि सम्बन्धी नए काले कानूनों को तत्काल वापस ले, एमएसपी को कानूनी रूप दे और घोषणा करे कि आगे कृषि को लेकर बनने वाला किसी भी तरह का कानून किसानों को विश्वास में लेकर ही बनाया जाएगा। उन्होंने कहा है कि देश में सामान्य स्थिति बनाने के लिए ये फैसले अति आवश्यक हैं। भारत सरकार ने इन फैसलों में विलम्ब किया तो फिलहाल तक किसान और कारपोरेट पोषित सरकार के बीच चल रही इस लड़ाई में अन्न खाने वाले देश के सभी नेक लोग किसानों के साथ लामबन्द होने के लिए मजबूर होंगे।

अपने आवास पर गुरुवार को मिलने आए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि इस देश का किसान मान रहा है कि नया कृषि कानून खेती बारी के हितों और उनके स्वामित्व पर हमला है। यह कानून बना रहा तो देशी विदेशी कंपनियां भारतीय नवरत्न कम्पनियों की तरह खेती बारी को भी निगल जाएगीं। इस कानून को वह काले कानून की संज्ञा दे रहा है। वह इसकी वापसी के लिए इस कानून के बनने के दिन से विरोध जता रहा है और शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहा है। वह भारत सरकार से अपनी बात कहने के लिए दिल्ली आ रहा था। सरकार को बातचीत करनी चाहिए थी लेकिन सरकार ने बातचीत की जगह किसानों पर हमला बोलवा दिया। उन्हें आंदोलन से विमुख करने के लिए उनके ऊपर अति शर्मनाक बल प्रयोग किया गया। उन्होंने कहा कि इस अतिशर्मनाक बल प्रयोग की, इस हमले की जितनी भी निंदा की जाए कम है। इस अतिशर्मनाक बल प्रयोग को लेकर पूरे देश के किसानों में असहज स्थिति बनी हुई है। इसे सहज करने का एक मात्र रास्ता है कि भारत सरकार इस हमले के लिए, इस अतिशर्मनाक बल प्रयोग के लिए किसानों से सार्वजनिक रूप से माफी मांगे।

उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि किसान अपनी खेती बारी से केवल खुद के लिए नहीं, पूरे देश के लिए अन्न पैदा करता है। उसके ऊपर हमला देश के लिए अन्न पैदा करने वालों पर हमला है, देश की आत्मा पर हमला है। इसलिए सरकार को अपने इस कुकृत्य के लिए माफी मांगने में देर नहीं करना चाहिए। उन्होंने कारपोरेट के जबड़े से अपनी खेती बारी को बचाने के लिए हो रहे आंदोलन में प्राणों की आहुति देने वाले किसानों को सैल्यूट किया और कहा कि इस देश का किसान और नेक नागरिक उनके इस बलिदान को कभी भुला नहीं पायेगा। भारत सरकार को भी उनके इस बलिदान को स्वीकार करना चाहिए और बेहिचक उन्हें शहीद का दर्जा प्रदान करना चाहिए।

उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि कृषि सम्बन्धी नए काले कानून के खिलाफ इस समय एक करोड़ से अधिक किसान सड़कों पर हैं। कारपोरेट समर्थकों को छोड़ दिया जाए तो जो अभी अपने घरों में हैं, उनमें से भी अधिसंख्य की सहानुभूति आंदोलनकारी किसानों के साथ है। इसलिए सरकार को चाहिए कि वह कारपोरेट का मोह छोड़कर देश के हित में, देश के किसानों के हित में नए कृषि कानूनों को तुरन्त वापस ले ले। उन्होंने कहा कि इसे लेकर भारत सरकार की जिद बेमतलब है। इस जिद की वजह से देश के किसानों में व्याप्त असहज स्थिति में हर रोज वृद्धि होगी जो किसी भी हाल में देश के हित में नहीं है।

उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि देश के किसानों में सहज स्थिति बनाने के लिए भारत सरकार को नए कृषि कानूनों की वापसी के साथ ही यह भी घोषणा करनी चाहिए कि अब किसान उत्पादों के लिए निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य ( एम एस पी ) को कानून का रूप दिया जाएगा, निर्धारित मूल्य से कम में खरीद को संज्ञेय अपराध माना जाएगा और इसके दोषियों के लिए कड़ी से कड़ी सजा का प्रविधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को यह भी घोषणा करनी चाहिए कि आगे किसी भी तरह का कृषि कानून बनाने से पहले किसानों का विश्वास अवश्य हासिल किया जाएगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बंगाल में 623 नए covid केस, रिकवरी रेट जानकर हैरान हो जायेंगे आप 

  कोलकाता: पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (covid) के 623 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या शुक्रवार...

बिहार :नाबालिग छात्र ने किया suicide, सामने आ रही है ये वजह 

  गया. बिहार में गया जिले के रामपुर थाना क्षेत्र में एक नाबालिग छात्र ने प्रेम प्रसंग में आत्महत्या(suicide) कर ली। पुलिस सूत्रों ने शुक्रवार...

Mathura : लेफ्टिनेंट जनरल करियप्पा ने दी शहीदों को श्रद्धाजंलि

  मथुरा: 15 जनवरी सेना दिवस के अवसर पर शुक्रवार को लेफ्टीनेन्ट जनरल सी. पी. करियप्पा ने राष्ट्रीय सुरक्षा और सम्मान के लिए सर्वोच्च बलिदान...

राम मंदिर निर्माण के लिए दान देते हुए कल्याण सिंह ने जताई ये इच्छा, आप भी जानें  

    लखनऊ: राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (kalyan singh) ने कहा कि उनकी अंतिम इच्छा...

सुशील मोदी ने ट्वीट कर क्यों कहा-बिचौलियों की लड़ाई लड़ रहा है विपक्ष,पढ़िए यहाँ  

  पटना: राज्यसभा सांसद एवं बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (sushil kumar modi) ने कृषि कानून के विरोध में आंदोलनरत किसानों से...