Saturday, November 28, 2020

निर्वाचन आयोग ने कमलनाथ को भेजा नोटिस, 48 घंटे में मांगा स्पष्टीकरण

Must read

Breaking news : अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर मचा बवाल, किसानों ने फेंकी बैरिकेडिंग, पुलिस ने छोड़ी आंसू गैस

दिल्ली कूच कर रहे किसानों का प्रदर्शन अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर काफी बढ़ गया है। यहां किसानों ने बैरिकेडिंग को उखाड़ फेंका है। जिसके बाद...

कोरोना को लेकर आज से विशेष अभियान, मुख्य सचिव ने कहा- मास्क नहीं पहनने वालों पर होगी कार्रवाई, अलर्ट जारी…

कोरोना में लगातार इजाफा होने के बाद बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों व पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो...

Farmers protest : दिल्ली बॉर्डर तक पहुंचे किसान, उत्तर प्रदेश में भी किया प्रदर्शन का ऐलान…

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन शुक्रवार यानी आज भी जारी रहेगा वहीं गुरुवार की रात हरियाणा के पानीपत के टोल प्लाजा पर...

Breaking news : CM केजरीवाल बोले पराली को लेकर पीएम को दखल देना ज़रूरी…

देश में कोरोना वायरस के मामलों में एक बार फिर तेज़ी देखने को मिल रही है। इस बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो अहम...

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा राज्य की महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी को ‘आइटम’ कहने का मामला निर्वाचन आयोग के समक्ष पहुंच गया है। इस मामले में आयोग ने बुधवार को कमलनाथ को नोटिस जारी किया है, जिसमें अपने बयान को 48 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण मांगा गया है।

दरअसल, राष्‍ट्रीय महिला आयोग ने मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त को पत्र लिखकर अमर्यादित बयान को लेकर कमलनाथ के खिलाफ आवश्‍यक कार्रवाई करने को कहा था। निर्वाचन आयोग ने मामले में सख्ती दिखाते हुए प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा भेजी गई रिपोर्ट के आधार पर कमलनाथ को नोटिस जारी किया है, जिसमें बयान को लेकर 26 घंटे में स्पष्टीकरण मांगा गया है।

गौरतलब है कि बीते दिनों ग्वालियर के डबरा विधानसभा क्षेत्र में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने इमरती देवी को बिना नाम लिये आइटम कहा था। इस मामले में राजनीतिक घमासान मच गया। मामला राष्ट्रीय महिला आयोग के साथ ही निर्वाचन आयोग तक पहुंच गया। पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी तक ने कमलनाथ के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया, लेकिन कमलनाथ अपने बयान को लेकर माफी मांगने के लिए तैयार नहीं हैं। अब निर्वाचन आयोग की सख्ती के बाद कमलनाथ की मुश्किल बढ़ गई है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...