Saturday, November 28, 2020

बेगूसराय : गांव से विदेश तक पहुंचता है छठ का सबसे प्रसिद्ध प्रसाद “ठेकुआ”,जाने क्या है इसकी विशेषता

Must read

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

Farmers March: दिल्ली में आज किसानों का धरना, बॉर्डर सील, NCR इलाके में नहीं जाएगी मेट्रो

देश की राजधानी दिल्ली में आज और कल पंजाब और हरियाणा के किसानों का विशाल प्रदर्शन रहने वाला है। आपको बता दे की ये...

कोरोना को लेकर आज से विशेष अभियान, मुख्य सचिव ने कहा- मास्क नहीं पहनने वालों पर होगी कार्रवाई, अलर्ट जारी…

कोरोना में लगातार इजाफा होने के बाद बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों व पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो...

किसानों पर पुलिस ने की पानी की बौछार, प्रियंका गांधी ने दिया ऐसे Reaction

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए हरियाणा और पंजाब के किसानों का...

बेगूसराय : सूर्योपासना का चार दिवसीय महापर्व छठ शुरू हो चुका है। महापर्व के दूसरे दिन आज गुरुवार को दिनभर उपवास कर देर शाम खरना पूजन करेंगी। गांव से जुड़े इस महापर्व में भी अब आधुनिकता का रंग चढ़ने लगा है, विभिन्न तरीके के प्रसाद बनाए जाने लगे हैं। लेकिन आज भी एक प्रसाद कॉमन है और वह है ठेकुआ। ठेकुआ एक ऐसा प्रसाद है जो हर अमीर से गरीब घरों में छठ में बनाकर सूर्य देव को और छठी मैया को चढ़ाया जाता है। इसके लिए नहाय-खाय के दिन बुधवार को ही गेहूं को धोकर साफ कर लिया गया है।

ठेकुआ के डिजाइन भले ही अलग-अलग होने लगे हैं, लेकिन इसका स्वाद आज भी वही है जो दशकों पूर्व था। अंतर बस इतना है कि पहले यह ठेकुआ प्रातः कालीन पूजा के बाद गांव-गाव में रिश्तेदारों तक पहुंचाए जाते थे और अब देश के कोने-कोने ही नहीं विदेश तक भेजे जा रहे हैं। जिनके भी परिजन विदेश में रह रहे हैं, उन तक कुरियर के माध्यम से यह भेजा जा रहा है। प्रोफेसर कॉलोनी के राजेश कुमार ने बताया कि उनकी बहन समेत चार रिश्तेदार यूएसए में रहते हैं और हर बार छठ के बाद उन्हें न ठेकुआ का प्रसाद हम लोग भेजते हैं।
लोक आस्था के महापर्व छठ में ठेकुआ का अलग महत्व है और इस पर्व का सबसे महत्वपूर्ण प्रसाद ठेकुआ ही माना जाता है। बिहार में स्वादिष्ट व्यंजन निर्माण की परंपरा पुरानी समय से समृद्ध रही है और छठ के ठेकुआ का तो कहना ही क्या। लोकगीत के मधुर धुनों पर झूमती महिलाएं जब ठेकुआ बनाती हैं तो इसमें ना सिर्फ चीनी और गुड़, बल्कि महिलाओं के सुमधुर गीत की मिठास भी घुल जाती है। कहा जाता है कि सूर्य देव और छठी मैया को भी ठेकुआ काफी पसंद है, जिसके कारण इसका स्वाद और दोगुना हो जाता है। आज भी प्रातः कालीन अर्घ्य समाप्त होते ही प्रसाद रिश्तेदारों के यहां पहुंचाने का प्रचलन है।
लेकिन प्रसाद में खासकर ठेकुआ का आदान-प्रदान जरूर किया जाता है। बेटियां अपने मायके से आने वाले प्रसाद में ठेकुआ का इंतजार करते रहती है। यूं ठेकुआ सालों भर बनाए जाते हैं, पहले के जमाने में जब लोग कहीं बाहर जाने लगते थे तो ठेकुआ बनाकर दे दिया जाता था। यह एक ऐसा महत्वपूर्ण व्यंजन है जो महीना-दो महीना तक भी खराब नहीं होता है, इसके स्वाद में कोई अंतर नहीं होता है।

 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

खराब हो गया है तेजस्वी यादव का मानसिक संतुलन : युवा JDU

बेगूसराय : विधानसभा में राजद नेता तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री पर किए गए बयानबाजी के विरुद्ध शनिवार को युवा जदयू के कार्यकर्ताओं ने बेगूसराय...

किसान की आय बढ़ाने वाला कानून सरकार कब ला रही है : अखिलेश यादव

लखनऊ : किसान आंदोलन (Farmer Protest) के प्रति सरकार के रवैए पर तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के...

चीनी वैज्ञानिकों का Corona Virus को लेकर दावा- भारत ने दुनियाभर में फैलाया वायरस

नई दिल्ली : दुनियाभर में कोरोना वायरस फैलाने वाला चीन अब भारत के सिर पर कोरोना का दोष मारन। ये बात कुछ अजीब लग...

LJP का 20वां स्थापना दिवस आज, चिराग ने पर्सनल अटैक पॉलिटिक्स के लिए नीतीश-तेजस्वी दोनों को दोषी बताया

आज एलजेपी का 20वां स्थापना दिवस है और पार्टी कोरोना से बचाव के बीच LJP स्थापना दिवस समारोह मनाएगी. पार्टी ने पहले ही यह...

U.P : केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति हुई कोरोना संक्रमित, AIIMS दिल्ली किया रेफर

कानपुर : केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री और फतेहपुर की सांसद साध्वी निरंजन ज्योति कोरोना संक्रमित होने पर उन्हें बेहतर इलाज के लिए कानपुर के...