Friday, May 14, 2021

आठवीं तक स्कूल बंद करने का पूरे जिले में विरोध

Must read

कहीं इन ट्रेनों से तो सफर नहीं करने जा रहे थे, रद्द रहेंगी ये सभी, देखें पूरी लिस्ट

नई दिल्ली. कोरोना (Corona) संक्रमण के बढ़ते प्रकोप की वजह से ट्रेनों को कैंसल करने का सिलसिला लगातार जारी है. पूर्वोत्तर रेलवे (North Eastern Railway)...

सपा के कद्दावर नेता पंडित सिंह का निधन

गोण्डा,  उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री और सपा के कद्दावर नेता विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह का गुरुवार को कोरोना से निधन हो गया।...

अखिलेश ने हसनी नदवी -वरिष्ठ पत्रकार सुभाष मिश्रा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त की

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दारुल उलूम नदवातुल उलमा के वी.सी. मौलाना सय्यद मोहम्मद हमजा हसनी नदवी तथा...

महाराष्‍ट्र को कोवैक्सिन की मिली मात्र 36,000 डोज,  67% तक गिरा टीकाकरण

मुंबई. देश में कोरोना (Corona) का संक्रमण खतरनाक रूप लेता जा रहा है. कोरोना की इस जंग में कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) को बड़ा...

हिसार,  कोरोना महामारी की आड़ में आठवीं कक्षा तक स्कूल बंद करने का विरोध सोमवार को शहर की सड़कों पर दिखाई दिया।

स्कूल संचालकों ने विरोध स्वरूप अपने स्कूलों की बसों को जिला मुख्यालय के साथ साथ तहसील मुख्यालय पर लाकर खड़ा कर दिया और एडीसी व एसडीएम को स्कूल बसों की चाबियां सौंपते हुए अपना पुरजोर विरोध जताया। शहर की सड़कें हजारों स्कूलों की पीली बसों से जाम सी दिखाई दी।
स्कूल संचालकों ने स्पष्ट चेतावनी दी कि यह विरोध केवल ट्रायल है। अगर सरकार ने अपना फैसला नहीं बदला तो स्कूलों को बंद करते हुए स्कूलों की चाबियां भी प्रशासन को सौंप दी जाएगी। हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ के प्रदेशाध्यक्ष सत्यवान कुंडू, सीबीएसई स्कूल एसोसिएशन के प्रधान डीएस राणा व मान्यता प्राप्त स्कूल संगठन के उपप्रधान राजपाल सिंधु ने कहा कि शासन प्रशासन जानबूझ कर स्कूल संचालकों को आंदोलन के लिए मजबूर कर रहा है।

उन्होंने कहा कि अगर कोरोना के चलते पूर्ण रूप से लॉकडाउन लगता है तो स्कूल संचालक भी स्कूल बंद करने को तैयार हैं, लेकिन कोरोना के नाम पर केवल स्कूलों को निशाना नहीं बनने दिया जाएगा।आज जगह जगह पर चुनावी रैलियां हो रही है। किसान आंदोलन चल रहा है, यातायात, रेल, हवाई यात्रा जारी है। मॉल, बाजार व सिनेमा तक खुले हैं। ऐसे में केवल स्कूलों को बंद करना न्यायसंगत नहीं है। स्कूल पहले ही कोरोना के चलते आर्थिक नुकसान उठा रहे हैं। अभिभावक भी चाहतें है कि उनके बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो और नियमित रूप से स्कूल खुले। स्कूल संचालक भी चाहते हैं कि बच्चों की पढ़ाई निर्बाध जारी रहे। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि शासन प्रशासन ने जोर जबरदस्ती की तो आंदोलन को ओर तेज कर दिया जाएगा, जिसकी सारी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

इस मौके पर कृष्ण बंसल, अनिल गोयल, एचके शर्मा, राजबीर, नरेंद्र मोहन, अजीत सिंह, अनिल मान, सतबीर सहारण, संजय, बहादुर सिंह व नवीन महता सहित विभिन्न स्कूल संचालक मौजूद थे।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...