Saturday, January 23, 2021

नितिन गडकरी ने फिर दिया ‘सत्यानाशी’ बयान, उलझ गई अपनी ही सरकार

Must read

एंटोनियो गुटेरस ने जन कुबिस को लीबिया में नियुक्त किया विशेष दूत

वाशिंगटन : संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जन कुबिस को लीबिया के लिए अपना विशेष दूत नियुक्त किया है। संयुक्त राष्ट्र प्रेस सेवा ने...

उद्धव और अखिलेश करेंगे गठबंधन! सपा ने शुरू की यह रणनीति

2022 में चुनावों को लेकर काफी हलचल मची हुई है। 2 राज्यों में यानी महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में चुनावों को लेकर काफी राजनीतिक...

BJP सांसद महावीर भगोरा नहीं रहे, वोट के बदले नोट कांड में थे शामिल

उदयपुर : राजस्थान में सलूंबर के पूर्व सांसद महावीर भगोरा का यहां निधन हो गया। 73 वर्षीय श्री भगोरा को 11 जनवरी को साइलेंट अटैक...

कोविड-19 के उपचार दर रिसेप्शन काउन्टर करना होगा प्रदर्शित

भोपाल, मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य आयुक्त ने प्रदेश के सभी क्लीनिक और नर्सिंग होम को कोविड-19 के उपचार की निर्धारित की गई दरों को रिसेप्शन...

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी(Nitin Gadkari) ने रविवार को एक किताब की लॉन्चिंग में दो बड़े बयान दिए। इन बयानों में जहा एक तरफ वे सरकार के कामकाज पर सवाल उठा रहे थे वहीँ चुनाव देखकर विपक्ष से बीजेपी(BJP) में आ रहे नेताओ पर भी तंज कसते दिखाई दिए। गडकरी ने उन्हें जहाज़ के चूहों की तरह बर्ताव करने से मना किया और एक विचारधारा पर टिके रहने की सलाह दी।

गडकरी ने लोकमत समूह द्वारा नागपुर(Nagpur) में आयोजित ‘पॉलिटिकल आइकन ऑफ विदर्भ’ किताब के विमोचन (Launch)में उन्होंने एक एक कर सरकार और विपक्ष को निशाना बनाया। सरकार की कार्यप्रणाली को ‘मनहूस’ का खिताब देते हुए उन्होंने कहा ‘मैं कभी किसी प्रोजेक्ट में सरकार से मदद नहीं लेता, क्योंकि जहां सरकार हाथ लगाती है वहां सत्यानाश होता है।’ इसी कार्यक्रम में नितिन गडकरी ने किसानो(Farmers) की दुर्दशा पर कहा कि विदर्भ इलाके में किसानों की आत्महत्याएं होती है, यह हमारे लिए शर्म की बात है। वहीँ गडकरी ने विपक्ष के उन नेताओं पर भी वार किया जो चुनाव देख कर बीजेपी पार्टी का हिस्सा बनने के लिए आ रहे हैं। उन्होंने कहा ‘मुझे लगता है कि नेताओं को स्पष्ट रूप से राजनीति का अर्थ समझना चाहिए। राजनीति महज सत्ता की राजनीति नहीं है। महात्मा गांधी(Mahatma Gandhi), लोकमान्य तिलक, पं. जवाहर लाल नेहरू(JawaharLal Nehru) और वीर सावरकर जैसे नेता सत्ता की राजनीति में शामिल नहीं थे।’ उन्होंने नेता को सत्ता की राजनीति से छोड़ एक विचारधारा पर टिके रहने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि मुश्किल घड़ी में नेताओं को डूबते जहाज से कूदते चूहों की तरह पार्टी बदलने से बचना चाहिए और पार्टी का सहारा बनना चाहिए।

गौरतलब कि नितिन गडकरी सड़क एवं परिवहन मंत्री है। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में इनके विभाग के काम को काफी सराहना मिली थी। हालांकि सरकार को लेकर उनके इस बयान से ऐसा लगता है कि उनको या उनके विभाग को संभवतः सरकारी नियमों की वजह से कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

हलवा सेरेमनी से बजट कार्यक्रम की शुरुआत,वित्त मंत्री समेत वरिष्ठ अधिकारी भी रहे मौजूद

नई दिल्ली : आगामी 1 फरवरी को बजट पेश किये जाएंगे। जिसको लेकर वित्त मंत्रालय ने तैयारी शुरु कर दी है। इसी कड़ी में...

पंचायत चुनाव के लिए आजाद समाज पार्टी ने कही कमर, की ये त्यारी

आजाद समाज पार्टी ने आगामी जिला पंचायत चुनावों को लेकर कसी कमर।पहली बार चुनाव में अपने प्रत्याशियों की घोषणा करते हुए आजाद समाज पार्टी...

हो जाइए सावधान! कहीं आप भी ज्यादा Toilet तो नहीं जाते, भरना पड़ेगा भारी जुर्माना

नई दिल्ली : कभी ऐसा हो जाए कि आप जब अपने ऑफिस पहुंचे और नया फरमान दिखें जिसमें कहा जाए कि यदि टॉयलेट एक...

तिरंगे फहराने के जानें खास नियम, पालन नहीं करने पर जाना पड़ सकता जेल

नई दिल्ली : हर साल की भांति इस बार भी 26 जनवरी को बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। दरअसल आज ही...

Nursery Admission Guidelines जनवरी के अंतिम हफ्ते में हो सकती हैं जारी

  नई दिल्ली : राजधानी में सीबीएसई बोर्ड (CBSE Board) परीक्षाओं के मद्देनजर 10वीं-12वीं के लिए स्कूलों 18 जनवरी से खोल दिया गया है। इन...