Friday, May 14, 2021

निशंक ने राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद बोर्ड बैठक की अध्यक्षता की

Must read

दिल्ली में 17,364 नए कोरोना केस, 24 घंटे में 332 लोगों की मौत

दिल्ली. कोरोना (COVID-19) की मार झेल रही दिल्ली (Delhi) में लगातार मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है. सरकार की ओर से जारी ताजा आंकड़ों...

उत्तर प्रदेश में 200 रुपए में मिल रही फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट , जाने सच

फर्रुखाबाद. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फर्रुखाबाद (Farrukhabad) जनपद में  पंचायत चुनाव के दौरान कोरोना की फर्जी एंटीजन रिपोर्ट (Fake Corona Report) 200 रुपये में...

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए क‍ितने द‍िन खा सकते हैं व‍िटामिन डी 3 व मल्‍टी विटामिन

नई दिल्‍ली. देश में कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) ने कोहराम मचा रखा है. हर दिन कोरोना संक्रमिक मरीजों की संख्‍या बढ़ती...

युवक को पेड़ से बांधकर पीटा, जाने पूरा मामला

प्रतापगढ़। युवक को पेड़ से बांधकर पीटा, चोरी करते समय ग्रामीणों ने एक युवक को पकड़ा, एक युवक को ग्रामीणों ने पकड़ा, दूसरा फरार,...

नयी दिल्ली,  केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने मंगलवार को यहाँ राष्ट्र्रीय उर्दू विकास परिषद की कार्यकारी बोर्ड बैठक की अध्यक्षता की एवं उर्दू के विकास के लिए किए जा रहे प्रयासों पर चर्चा की।

डॉ निशंक ने कहा कि पिछले परिषद को दिया जाने वाला फंड लगभग दोगुना कर दिया गया है। उन्होंने कहा, “वर्ष 2009-14 के बीच इस संस्था को 193.83 करोड़ रुपए दिए गए थे वहीं 2015-2020 के बीच में 402.56 करोड़ रुपए दिए गए हैं। इसके अलावा डिप्लोमा इन कंप्यूटर एप्लीकेशन, बिज़नेस एकाउंटिंग एवं मल्टीलिंगुअल डीटीपी के केंद्रों को इसी समयाविधि के दौरान 468 से बढ़ा कर 539 कर दिया गया है। इन केंद्रों में छात्रों की संख्या भी 1,06,615 से बढ़ कर 1,69,77 हो गए हैं।”
इसके अलावा डॉ निशंक ने बताया कि डिप्लोमा इन कैलीग्राफी एवं ग्राफ़िक डिज़ाइन के भी केंद्र भी 55 से बढ़ा कर 74 किए गए हैं जहाँ पहले के 5176 छात्रों के मुकाबले अब 17950 छात्र पढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा, “उर्दू भाषा में एक साल के डिप्लोमा पाठ्यक्रम के बारे में बताते हुए कहा कि जहाँ 2009-14 में 1066 केंद्रों में 2,98,595 छात्र पढ़ रहे थे वहीं 2015-20 में 1423 केंद्रों में 4,93,981 छात्र पढ़ रहे हैं। अरबी एवं फ़ारसी भाषा में डिप्लोमा एवं सर्टिफिकेट कोर्स में भी 505 केंद्रों को बढ़ा कर 873 कर दिया गया और छात्रों की संख्या 1,48,302 से बढ़ कर 2,66,791 हो गई है।”
इस बैठक में परिषद के कार्यकारी बोर्ड के सदस्यों ने केंद्रीय मंत्री को वर्ष 2020-21 की उपलब्धियों के बारे में भी अवगत करवाया। राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद, शिक्षा मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संस्थान है जो देश भर में उर्दू, अरबी और फारसी भाषाओं के प्रचार के लिए कार्य करता है और यह भारत सरकार को उर्दू भाषा से जुड़े मुद्दों पर सलाह देता है।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...