Friday, May 14, 2021

जौनपुर में मनाया गया जलियांवाला बाग कांड का 102 वाँ बलिदान दिवस

Must read

महोबा में बस खाई में गिरी,13 घायल

महोबा  उत्तर प्रदेश में महोबा के अजनर इलाके में एक निजी बस के आज खाई में गिर जाने से 13 यात्री घायल हो गये...

रेलकर्मियों को कोरोना योद्धा मानने, 50 लाख रु. मुआवजा देने की मांग

नयी दिल्ली रेलकर्मियों की सबसे बड़ी यूनियन ऑल इंडिया रेलमैन्स फेडेरेशन (एआईआरएफ) ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से मांग की है कि कोविड महामारी...

हिमाचल में भूकंप के झटके, 1 माह में चौथी बार हिली धरती

शिमला. हिमाचल प्रदेश में भूकंप आया है. सूबे के कांगड़ा जिले के धर्मशाला में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. मौसम विभाग के शिमला...

पोस्ट कोविड मरीजों को म्यूकोरमाइकोसिस संक्रमण का खतरा

औरैया, कोरोना की दूसरी लहर से उबर चुके मरीजों में अब म्यूकोरमाइकोसिस फंगल इन्फेक्शन का खतरा गहराने लगा है। चिकित्सकों के अनुसार यह दुर्लभ फंगल...

जौनपुर  उत्तर प्रदेश में जौनपुर के सरांवा गांव में स्थित शहीद लाल बहादुर गुप्त स्मारक पर आज हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकंन आर्मी व् लक्ष्मीबाई ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने देश की आज़ादी की लड़ाई के दौरान हुए जलियावाला बाग नरसंहार कांड में शहीद हुए चार सौ से अधिक महान क्रांतिकारियों का 102 वाँ बलिदान दिवस
मनाया ।

कार्यकर्ताओ ने शहीद स्मारक पर मोमबत्ती व अगरबत्ती जलाई और दो मिनट का मौन रख कर सभी स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को श्रद्धांजलि दी ।

शहीद स्मारक पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए लक्ष्मी बाई ब्रिगेड की अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि आज के ही दिन 13 अप्रैल सन 1919 में पंजाब के जलियांवाला बाग में ब्रिटिश शासन के अत्याचारी जनरल आर ई एच डायर ने असहयोग सभा कर रहे लोगों पर अंधाधुंध गोलियां चलवाई ,जिससे चार सौ से अधिक लोग मारे गए और एक हज़ार से अधिक लोग घायल हो गए ।

उन्होंने कहा कि आज भी जलियावाला बाग में 388 अमर शहीदों का नाम शिलापट पर दर्ज है । उन्होंने कहा कि जिस समय यह नरसंहार हो रहा था ,उस समय अमर शहीद उधम सिंह वहां मौजूद थे ,इस कांड का बदला लेने के लिए उधम सिंह ने 13 मार्च 1940 को लंदन के कैक्स्टन हाँल में बम विस्फोट किया और ब्रिटिश गवर्नर माइकल ओ डायर को गोली मार दी थी ,अंग्रेजो ने 21 जुलाई 1940 को शहीद उधम सिंह को भी फांसी पर लटका दिया था ।

जलियांवाला बाग को एक अधिनियम “जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम,1951” पारित कर राष्ट्रीय स्मारक घोषित किया था। इस स्मारक का प्रबंधन जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक न्यास (जेबीएनएमटी) करता है।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...